बांसवाड़ा : अम्बा माता मंदिर का निखरेगा स्वरूप, अगले माह शंखनाद

Ashish vajpayee

Publish: Oct, 13 2017 08:47:01 (IST)

Banswara, Rajasthan, India
बांसवाड़ा : अम्बा माता मंदिर का निखरेगा स्वरूप, अगले माह शंखनाद

मंदिर कमेटी की ओर से तैयारियां पूरी, सफेद मार्बल का किया जाएगा इस्तेमाल, दो वर्ष में पूर्ण होगा कार्य

मंदिर कमेटी की ओर से तैयारियां पूरी, सफेद मार्बल का किया जाएगा इस्तेमाल, दो वर्ष में पूर्ण होगा कार्य

बांसवाड़ा. प्रसिद्ध मंदिर अंबे माता का बदला स्वरूप सामने आएगा। इस कार्य का शुभारंभ अगले माह से होगा। इसके लिए मंडल की ओर से पूरा खाका तैयार कर लिया गया है। मंदिर के जीर्णोद्धार के तहत कार्य ९ नवंबर से प्रारंभ कर दिया जाएगा। जिसमें मंदिर के कई हिस्सों को पुन: निर्माण के लिए तोडऩा प्रारंभ किया जाएगा। साथ ही निर्माण कार्य के लिए ४ दिसंबर की तारीख निर्धारित की गई है। कार्य पूर्ण के लिए तकरीबन दो वर्ष का समय निर्धारित किया गया है।

३ फीट ऊपर हो जाएगा गर्भगृह

माता मंदिर के जीर्णोद्धार कार्य को लेकर श्री अंबिका माई मंडल के अध्यक्ष भास्कर त्रिवेदी ने बताया कि निर्माण कार्य के तहत मंदिर के गर्भगृह के हिस्से को तीन फीट ऊपर किया जाएगा। जिसके लिए आसपास की जमीन की खुदाई करवाई जाएगी। इस कार्य के लिए गर्भगृह को किसी प्रकार की क्षति नहीं पहुंचाई जाएगी। मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

सफेद मकराना पत्थर का होगा इस्तेमाल

मंडल सचिव तरुण दवे ने बताया कि मंदिर में सफेद मकराना पत्थर का उपयोग किया जाएगा। साथ ही पत्थरों पर मंदिर के अनुसार नक्काशी भी करवाई जाएगी। कार्य के लिए अभी बैंगलोर, अहमदाबाद और सिरोही जिलों से पांच कारीगरों ने कोटेशन भेजे हंै, लेकिन अभी किसके द्वारा कार्य कराया जाएगा। इसका निर्धारण कमेटी कार्य के आधार पर करेगी।

२०१० से किए जा रहे हैं प्रयास

मंडल पदाधिकारियों ने बताया कि मंदिर के जीर्णोद्धार का विचार वर्ष २०१० से चल रहा था, लेकिन कई कारर्णो के कारण यह मूर्तरूप नहीं ले सका। लेकिन इस वर्ष से यह कार्य प्रारंभ किया जाएगा। साथ ही बताया कि नागर समाज के वरिष्ठजनों के निर्देशन में मंडल कोषाध्यक्ष बलदेव प्रसाद दवे, सदस्य वशिष्ठ त्रिवेदी, शिवप्रसाद नागर, प्रकाश नागर और कमल याज्ञ्निक इस काम में जुटे हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned