बांसवाड़ा : स्वच्छता के लिए राज्यमंत्री ने थामी कमान, पार्षदों व कार्मिकों की ली क्लास

Ashish vajpayee

Publish: Dec, 08 2017 12:59:50 (IST)

Banswara, Rajasthan, India
बांसवाड़ा : स्वच्छता के लिए राज्यमंत्री ने थामी कमान, पार्षदों व कार्मिकों की ली क्लास

सख्त हिदायतें भी दीं

बांसवाड़ा. जनवरी में शुरू हो रहे राष्ट्रीय स्वच्छता सर्वे में बांसवाड़ा को श्रेष्ठतम स्थान पर लाने की कोशिशों के तहत पंचायतीराज राज्यमंत्री धनसिंह रावत ने कमान संभाल ली है। रावत ने गुरुवार अपराह्न बाद नगर परिषद सभागार में पार्षदों और कर्मचारियों की बैठक लेकर उन्हें मार्गदर्शन देते हुए आपसी सामन्जस्य बनाकर काम करने और आमजन को साथ में जोडकऱ शहर के स्वच्छ बनाने का आह्वान किया। इसके साथ यह हिदायत भी दी कि खाली भूखंडों पर कचरा डालने वालों पर कार्रवाई की जाए और परिषद के कार्मिक ड्यूटी निभाने में गलती करे तो उन्हें भी बख्शा नहीं जाए।

बैठक में रावत ने कहा कि शहर को स्वच्छ बनाने के लिए खुद में बदलाव लाएं। किसी को दोष देने की बजाय स्वयं का भी आकलन करें। स्वच्छता के लिए पार्षदों की भी जिम्मेदारी है। वे अपने वार्ड के लोगों का भी सहयोग लें। उन्होंने आयुक्त को सर्वे को लेकर नियंत्रण कक्ष बनाने, मोबाइल टीम बनाने, खाली पड़े भूखंडों पर कचरा व गंदगी डालने वालों के खिलाफ कार्रवाई कर परिषद का बोर्ड लगाने को कहा। वहीं परिषद के किसी कर्मचारी की गलती पर कार्रवाई के निर्देश दिए। उन्होंने सडक़ के किनारे कच्ची जगहों पर इंटरलॉकिंग या सीसी कराने और नालों के दोनों ओर पौधरोपण कराने के निर्देश दिए। आरंभ में सभापति मंजूबाला पुरोहित ने सर्वे को लेकर आहूत बैठक के उद्देश्य की जानकारी दी।

मनमर्जी से निर्माण बर्दाश्त नहीं

बैठक में उप सभापति महावीर बोहरा ने आठ वार्डों में सीवरेज की समस्या होने, सडक़ क्षतिग्रस्त होने और नालों का निर्माण मनमर्जी से करने की बात उठाई तो राज्यमंत्री ने कहा कि मनमर्जी से निर्माण बर्दाश्त नहीं होगा। ऊपर से काम स्वीकृत हो जाते हैं। यहां न आयुक्त को पता है न किसी अन्य अधिकारी को। जयपुर से टेंडर होने से यहां हमारा नियंत्रण नहीं है। उन्होंने कहा कि नाला निर्माण होने या इसकी खुदाई के दौरान पार्षद स्वयं इस काम को देखे। परिषद भी देखे कि जिस वार्ड में नाले का काम हो रहा है, उसकी जानकारी संबंधित पार्षद को होनी चाहिए। उन्होंने सीवरेज कार्य के दौरान आठ वार्डों में नाली व सडक़ कार्य हुए बिना किसी भी प्रकार का भुगतान नहीं करने के निर्देश दिए।

आयुक्त ने कहा- कुछ इलाकों में रात में भी होगी सफाई

बैठक में आयुक्त बीआर सैनी ने कहा कि स्वच्छता सर्वे को लेकर हर वार्ड में एक स्टाफकर्मी तैनात किया जाएगा। पांच वार्डों का जोन बनाकर पर्यवेक्षक लगाया जाएगा। कुछ क्षेत्रों में रात्रि में भी सफाई कराई जाएगी। सफाईकर्मियों की सुविधा के लिए खड़े झाडू मंगवाए जा रहे हैं। कचरा संग्रहण प्रक्रिया भी टेंडर पर देना विचाराधीन है। घर-घर कचरा संग्रहण के बाद कचरा फेंकने वालों से कैरिंग चार्ज वसूला जाएगा। कचरे के निस्तारण के लिए अतिरिक्त भूमि की आवश्यकता के लिए प्रशासन से बातचीत की जा रही है।

यह बोले पार्षद

विमल भट्ट: भीतरी शहर में गड्ढे हैं और इनमें कचरा भरा रहता है। इससे अधिक समस्या है।

सीता डामोर: कच्च्ी बस्ती सहित सभी वार्डों में पक्की नालियां बने। सफाई के लिए लेबर की संख्या बढ़े।

शब्बीर रतलामी: सफाईकर्मियों के कार्य समय की मॉनिटरिंग की जाए।

अमरसिंह राठौड़: नालियों की नियमित सफाई के लिए टीम बनाएं।

जाहिद अहमद: नाली मरम्मत के टेण्डर हों। कच्ची नालियों से गंदगी फैल रही है। वार्डवार जोन की कार्ययोजना बनाएं।
सचिन सोनी: खुले घूमते मवेशियों की समस्या पर अंकुश लगे। वार्डवार कचरापात्र वितरण किया जाए।

गायत्री शर्मा: वार्ड और क्षेत्रफल के अनुसार सफाईकर्मियों की संख्या निर्धारित की जाए।

भूपेंद्र भोई: खुले में शौच की समस्या है। सामुदायिक शौचालय का निर्माण किया जाए।

महावीर बोहरा: खाली भूखंडों पर परिषद का बोर्ड लगाए। जमादारों की लापरवाही पर अंकुश लगे। मॉनिटरिंग भी जरूरी। योगेश जोशी: कचरा सेंटर से नियमित उठाव हो। मोहल्लावार कमेटी बनाई जाए। सडक़ों को नाली तक चौड़ा करें।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned