scriptBanswara news | गोविन्द गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय : माइग्रेशन प्रमाण पत्र के लिए नहीं लगानी पड़ेगी दौड़ | Patrika News

गोविन्द गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय : माइग्रेशन प्रमाण पत्र के लिए नहीं लगानी पड़ेगी दौड़

locationबांसवाड़ाPublished: Nov 24, 2022 08:33:02 pm

बांसवाड़ा. गोविन्द गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय से सम्बद्ध बांसवाड़ा, डूंगरपुर और प्रतापगढ़ जिलों के कॉलेज शिक्षा में अध्ययन कर रहे और कर चुके उन विद्यार्थियों के लिए राहत भरी खबर है, जिन्हें अन्यत्र या उच्च शिक्षा के लिए माइग्रेशन प्रमाण पत्र लेने बांसवाड़ा जीजीटीयू की दौड़ लगानी पड़ती थी।

गोविन्द गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय बांसवाड़ा
माइग्रेशन प्रमाण पत्र के लिए नहीं लगानी पड़ेगी दौड़
विश्वविद्यालय प्रशासन ने कैंपस सहित तीनों जिलों के 11 अन्य महाविद्यालयों को नोडल केंद्र बनाया है। विद्यार्थी ऑनलाइन पोर्टल से आवेदन करने के बाद चाहे गए केंद्र से मूल माइग्रेशन प्रमाण पत्र ले सकेंगे। इस प्रक्रिया को समझाने के लिए विश्वविद्यालय परीक्षा अनुभाग की ओर से प्रभारियों की प्रशिक्षण बैठक हुई। बैठक में बताया कि जीजीटीयू कैम्पस, न्यू लुक गर्ल्स कॉलेज लोधा, अरावली कॉलेज ठीकरिया, लीयो कॉलेज डांगपाड़ा, सर्वोदय गर्ल्स कॉलेज बागीदौरा, एमबीडी कॉलेज कुशलगढ़, पीएसपी कॉलेज परतापुर, सिद्धि कॉलेज सागवाड़ा, गुरुकुल कॉलेज डूंगरपुर, एपीसी कॉलेज प्रतापगढ़ व सिद्धेश्वर कॉलेज धरियावद को नोडल केंद्र बनाया है।
यह लाने होंगे दस्तावेजमूल माइग्रेशन विद्यार्थी को ही दिया जाएगा। विशेष परिस्थिति में ही विद्यार्थी के माता-पिता, भाई-बहन, पति-पत्नी को स्टाम्प पर अधिकार पत्र देने पर ही दिया जा सकेगा। विद्यार्थी को आधार कार्ड और ऑनलाइन भरे फॉर्म की रसीद की प्रति देनी अनिवार्य होगी।
परीक्षा के लिए यह निर्देश

इधर जीजीटीयू ने ऑनलाइन परीक्षा आवेदन को लेकर निर्देश दिए हैं। इसके अनुसार प्रथम वर्ष कला में छह ग्रुप में से ही विषय चयन करने हैं। विद्यार्थी प्रत्येक ग्रुप से एक विषय का चयन कर तीन वैकल्पिक विषय का चयन कर सकेंगे। इसमें अधिकतम दो भाषाएं ले सकेगा। यदि कोई विद्यार्थी प्रायोगिक विषय साइंस, भूगोल, ड्राइंग, गृहविज्ञान, संगीत आदि लेकर प्रथम वर्ष में प्रवेश ले रहा है और परीक्षा फॉर्म भर रहा है। उसे आगामी सत्रों में कोई अन्य कोर्स करना है तो उसे परीक्षा फॉर्म में प्रायोगिक विषय नहीं लेने को कहा गया है। एसटीसी आदि परीक्षा उपरांत या अन्य राजकीय सेवा में नियुक्ति होने की स्थिति में प्रायोगिक विषय होने पर नियमित प्रवेश नहीं मिल पाएगा। नियमित व स्वयंपाठी विद्यार्थियों को मूल माइग्रेशन प्रमाण पत्र अनिवार्यतः जमा करना होगा।
यह भी जरूरी

जो विद्यार्थी किसी भी राजकीय या निजी महाविद्यालय में प्रथम वर्ष में नियमित अध्ययन कर रहे हैं, उन्हें मूल टीसी और मूल चरित्र प्रमाण पत्र कॉलेज में जमा कराना अनिवार्य होगा। समस्त टीसी और चरित्र प्रमाण पत्र का संधारण सम्बंधित महाविद्यालय द्वारा ही किया जाएगा। यदि कोई विद्यार्थी कहीं भी किसी अन्य कोर्स में अन्यत्र नियमित पढ़ रहा है, उसे किसी भी स्थिति में जीजीटीयू के किसी भी कॉलेज में नियमित प्रवेश नहीं लेना है और न ही नियमित के रूप में परीक्षा फॉर्म भरना है।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

श्रद्धा मर्डर केस: कल आफताब के नार्को टेस्ट के लिए FSL में तैयारी, जानिए तिहाड़ में कैसे गुजरी पहली रातBJP का केजरीवाल पर हमला, संबित पात्रा बोले, सत्येंद्र जैन के लिए जेल में रखे गए हैं 10 लोगकेजरीवाल का बड़ा दावा! बोले- लिख कर देता हूं गुजरात में बन रही AAP की सरकारमन की बात में पीएम मोदी ने कहा, जी-20 की अध्यक्षता मिलना गौरव की बातपहली बार अरब गणराज्य मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी होंगे गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथिBJP MP कमलेश पासवान को डेढ़ साल की सजा, पूर्व विधायक पर भी आया फैसलाPaid Surrogacy: Russia में foreigners नहीं ले पाएंगे किराए पर कोख, आएगा कानूनIND vs NZ : भारत की उम्मीदों पर बारिश ने फेरा पानी, न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरा वनडे रद्द
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.