बांसवाड़ा : अब महिलाओं को पसंद आने लगी लाइटवेट डिजायनर ज्वैलरी

बांसवाडा में रतलाम की ज्वैलरी का क्रेज

By: Ashish vajpayee

Published: 14 Nov 2017, 10:12 PM IST

गनोड़ा. बांसवाड़ा. कहा जाता है कि महिलाओं को यदि सबसे ज्यादा कुछ पंसद है तो सोने-चांदी के बने आभूषण। पहले तो महिलाओं में हेवी ज्वैलरी पहनने का शौक बहुत ज्यादा था, लेकिन बदलते फैशन के दौर में पिछले कुछ सालों से शहरों कि महिलाओं में तो हेवी ज्वैलरी पहनने का क्रेज घट रहा है, लेकिन विगत कुछ सालों में अब गांवों में रहने वाली महिलाओं का भी हेवी ज्वैलरी से मोह भंग हो रहा है। साथ ही लाइटवेट डिजायनर ज्वैलरी का क्रेज बढ़ रहा है।

अब महिलायें ड्रेस के साथ मेंचिग ज्वैलरी को ज्यादा तवज्जों देने लगी है चाहे इयर रिंगस हो, फिंगर रिंग्स या नेकलेस सेट हो सभी लाइटवेट ही पसंद किए जा रहे है। सोना-चंादी के व्यापारी सुनील जैन बताते है कि अब महिलाएं पहनने के लिए हेवी सेट की बजाय लाइटवेट ज्वैलरी को खरीदना पसंद कर रही है। जिसकी वजह से हेवी सेट्स की डिमांड कम हो रही है। बांसवाडा में रतलाम की ज्वैलरी का क्रेज ज्यादा है।

गांवो में है टीवी का असर

आदिकाल से ही राजपूत, पाटीदार, लबाना सहित कई समाज की महिलाएं भारी आभुषण पहनती चली आई है। लेकिन जैसे जैसे शिक्षा का असर गांवों में पड़ रहा है वैसे-वैसे पहनावें में भी असर देखने मिल रहा है। देखा जाए तो गांवों में टीवी सीरियल एवं फिल्में भी प्रभाव छोडऩे में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। वहीं विवाह आयोजनों में भी सजने संवरने पर भी टीवी का असर देख सकते है।

फैशन का है दौर

फैशन का रिश्ता लोगों के साथ बहुत पुराना है। जमाने के साथ-साथ फैशन भी बदलता रहता है और लोगों के रहन-सहन में भी इसका बदलाव नजर आता है। पहले महिलाओं में भारी आभुषण पहनने का फैशन था साथ ही पहले के समय में पुरूष भी सोने चांदी के आभुषण पहनना पसंद करते थे। लेकिन जैसे जैसे समय बदला पुरूषों में फॉर्मल रहने का फैशन आ गया और आभुषण सिर्फ महिलाओं की शोभा बढ़ाने लगे। अब महिलाएं भी लाइटवेट ज्वैलरी को ज्यादा पसंद करने लगी है। फैशन इसी का है और यह बदलता रहेगा।

Ashish vajpayee
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned