बांसवाड़ा : महिला समूह की दबंगई, लोन की किस्त नहीं भरी तो प्रताडि़त कर घर से भगाया फिर उतार ले गए घर से पतरे

deendayal sharma

Updated: 20 Sep 2019, 11:18:06 AM (IST)

Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा/घाटोल. अब तक निजी फाइनेंस कंपनियों के भाड़े पर लिए लोगों द्वारा लोन वसूली के लिए दादागिरी के मामले तो सामने आते रहे हैं, लेकिन बांसवाड़ा जिले के गांवों में गठित महिला समूह भी ऐसी दबंगई करने लगी हैं। इसका नमूना वाडगुन गांव में सामने आया जबकि स्वयं सहायत समूह (SHG) की सदस्याओं ने एक साथी सदस्या और उसके पति को घर से भागने पर विवश कर दिया, वहीं पीछे उसके घर की छत पर डाले पतरे तक निकालकर ले गईं।

एक-दूसरे को आर्थिक संबल देने के लिए जिले में बनाए महिला समूह की आफत का वाकया वाडगुन ग्राम पंचायत के कानाड़ोकी पाड़ा गांव में हुआ। यहां महिला समूह से गांव की दुर्गा पत्नी बापूलाल ने आठ माह पहले 50 हजार रुपए ऋण लिया था। कुछ माह तक उसने किस्तें जमा करवाई, फिर पारीवारिक कारणों से दो किस्तें भरने से चूक गई। इस पर महिला समूह ने तकाजे के साथ घेराबंदी शुरू कर दी। दुर्गा और उसके पति बापूलाल ने मोहलत मांगी, लेकिन समूह की सदस्याओं ने एक नहीं सुनी और मारपीट पर भी आमादा हो गई। बकौल दुर्गा, दो दिन पहले बवाल बढ़ा, तो उसे पति के साथ घर छोडऩा पड़ गया। इस पर पीछे समूह की सदस्याओं ने पहुंचकर सूने घर के आंगन में तोडफ़ोड़ की और छत से पतरे उतार कर ले गईं। बापूलाल की मां ने बताया कि महिला समूह रोज आकर परेशान करता है, इसलिए बेटा-बहू कहीं चले गए। अभी उनके पास जमा कराने के लिए पैसा नहीं है। मजबूरन वे पांच साल के बेटे को उसके पास छोड़ गए हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned