बांसवाड़ा में भाजपा का हल्ला बोल, राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी, राज्यपाल को भेजा ज्ञापन

बांसवाड़ा में भाजपा का हल्ला बोल, राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी, राज्यपाल को भेजा ज्ञापन
बांसवाड़ा में भाजपा का हल्ला बोल, राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी, राज्यपाल को भेजा ज्ञापन

deendayal sharma | Updated: 23 Aug 2019, 07:57:59 PM (IST) Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा जिला मुख्यालय पर भारतीय जनता पार्टी की ओर से जनप्रतिनिधियों, पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को राज्य सरकार के खिलाफ हल्ला बोल कार्यक्रम के तहत धरना देकर राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

बांसवाड़ा. भारतीय जनता पार्टी की ओर से शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर राज्य सरकार के खिलाफ हल्ला बोल कार्यक्रम के तहत धरना देकर जनप्रतिनिधियों, पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बाद में अतिरिक्त कलक्टर राजेश वर्मा को राज्यपाल के नाम ज्ञापन देकर राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था, अनुसूचित जाति के लोगों पर हो रहे अत्याचार और अपराधों में लगातार बढ़ोतरी पर चिंता व्यक्त की गई।

ज्ञापन में ऐसी घटनाओं की फास्ट ट्रेक कोर्ट में निरंतर सुनवाई कर तीन माह में निर्णय करने, थानागाजी जैसी घटनाओं में क्षतिपूर्ति के मापदंड अनुरूप शेष घटनाओं में भी पीडि़तों को सरकारी नौकरी, क्षतिपूर्ति राशि तत्काल दिए जाने की मांग की गई। इससे पहले यहां आयोजित धरने पर सांसद कनकमल कटारा ने अफसरों को खुलकर चेताया।

उन्होंने कहा कि पहले राजस्व गांव घोषित करते और उसके बाद पंचायत पुनर्गठन करते तो बहुत अच्छी पंचायतें बनती। पंचायत पुनर्गठन में आज लोग आपत्तियां दर्ज करा रहे हैं। यदि गांव के लोगों को किसी प्रकार से परेशान करने और सरकार के इशारे पर राजनीतिकरण करने का काम किया और भेजे प्रस्तावों की घोषणा कर दी तो चाहे एसडीएम हो या तहसीलदार, उन्हें कोर्ट की पेशियां करनी पड़ेगी। सांसद कटारा ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद से कानून व्यवस्था चरमरा गई है। दलित एवं महिला उत्पीडऩ की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है। अपराधियों पर किसी प्रकार का नियंत्रण व अंकुश नहीं रहा है। धरने पर अन्य नेताओं के संबोधन के बाद सभी पदाधिकारी व कार्यकर्ता कलक्ट्री पहुंचे और ज्ञापन दिया।

बांसवाड़ा में जन्माष्टमी की छुट्टी में बदलाव ने किया परेशान, शिक्षक आए नहीं तो स्कूलों में कंकड़-कबड्डी खेलते दिखे 'बाल-गोपाल'
बिगड़ती कानून व्यवस्था पर राज्य सरकार जिम्मेदार
इससे पहले धरनास्थल पर विधायक हरेंद्र निनामा और कैलाश मीणा ने कहा कि बिगड़ती कानून व्यवस्था की जिम्मेदार राज्य सरकार है। दलितों एवं महिलाओं के साथ जो कुठाराघात एवं व्यवहार हो रहा है, उससे आम जनता त्रस्त है तथा स्वयं को असुरक्षित महसूस कर रही है।
प्रदेश हुआ शर्मसार
प्रदेश मंत्री व पूर्व राज्यमंत्री भवानी जोशी ने कहा कि अलवर के थानागाजी में दलित महिला के साथ सामूहिक बलात्कार की घटना ने प्रदेश को शर्मसार कर दिया। कांग्रेस सरकार ने मामले को दबाने का प्रयास किया। इस तरह की घटनाएं लगातार दलितों एवं महिलाओं के साथ हो रही हैं। जिलाध्यक्ष मनोहर त्रिवेदी ने दलित युवक हरीश की हत्या और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने पर उसके पिता की ओर से आत्महत्या करने को सरकार के लिए शर्मनाक स्थिति बताया।

इन्होंने भी किया संबोधित
धरने को संगठन प्रभारी गौतम दक, हकरू मईड़ा, पूर्व सांसद मानशंकर निनामा, खेमराज गरासिया, विजयलक्ष्मी श्रीमाल, प्रधान राजेश कटारा, दूधालाल मईड़ा, लक्ष्मण डिंडोर, दलीचंद मईड़ा आदि ने संबोधित किया। संचालन मुकेश रावत ने किया। प्रवक्ता गौरवसिंह राव के अनुसार इस दौरान जिला महामंत्री गोविंदसिंह राव, लालसिंह पाटीदार, सभापति मंजूबाला पुरोहित, लक्ष्मी निनामा, कृष्णा कटारा,ओबीसी मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष राजेन्द्र पंचाल, जनजाति मोर्चा जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र राठौड़, सरदार पारगी, अर्जुनसिंह मईडा, कानहिंग रावत, उप प्रधान विजयपाल पाटीदार, कन्हैयालाल राठौड़ सहित पार्टी के जिला व मंडल पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned