बांसवाड़ा : वन विभाग की पड़त भूमि पर कर दी बुवाई, 38 जनों के खिलाफ मामला दर्ज

www.patrika.com/rajasthan-news

By: Ashish vajpayee

Published: 24 Jul 2018, 01:02 PM IST

बांसवाड़ा. सज्जनगढ़. ग्राम पंचायत खूंटाचतरा के गांव पण्डवाल उकार में वन विभाग की पड़त भूमि पर 50 से अधिक काश्तकारों ने बुवाई करने की सूचना पर सोमवार को वन विभाग सज्जनगढ़ के अधिकारी प्रवीणकुमार आहरी, वनपाल रामलाल डामोर गिरीश डागर, तेजसिंह चौहान, यशपालसिंह सहित अन्य वन कार्मिकों ने मौके पर पहुंच कर बुवाई को नष्ट किया एवं 38 जनों के खिलाफ सज्जनगढ़ पुलिस थाना में मामला दर्ज कराया।

ग्रामीणों का समझाया, नहीं माने
वन अधिकारी आहरी ने बताया कि पण्डवाल उकार निवासी थावरा पुत्र बिजिया, नूरजी पुत्र बिजीया, किडिया पुत्र हुरपाल, मडसिया पुत्र नागजी, रमसु पुत्र वागजी, भारतसिंह पुत्र बिजिया, हवजी पुत्र वरसेंग, धीरू पुत्र हवजी, थानिया पुत्र हवजी सहित 38 जनों ने अतिक्रमण कर उसमें बुवाई कर दी। विभाग की ओर से काश्तकारों को कई बार समझाया गया इसके बावजूद अतिक्रमण कर बुवाई करने पर कार्रवाई की गई।

वर्ष 2009 से कर रहे बुवाई
वन समिति अध्यक्ष धीरू बारिया ने बताया कि काश्तकार वन विभाग की बंजर पड़त जमीन पर 2009 से बुवाई कर रहे हैं और वनाधिकार अधिनियम के तहत पट्टा जारी करने के लिए जिला प्रशासन एवं पंचायत को कई बार ज्ञापन दे चुकें हैं। वन विभाग एवं राजस्व विभाग की ओर से अतिक्रणकारियों के खिलाफ 2016 में पैनल्टी के रूप में धारा 91 की कार्रवाई कर राशि वसूल की थी। इधर, ग्रामीणों ने संसदीय सचिव भीमा डामोर को ज्ञापन देकर बताया कि 2009 से वन विभाग की जमीन पर काबिज होने के बाद भी वनाधिकार पट्टों से वंचित रखा जा रहा है। इस जमीन से फ सल की उपज कर पारिवारिक भरण पोषण कर रहे हैं।

10 साल से चल रहा है विवाद
गौरतलब है कि 27 जुलाई 2009 को पण्डवाल उकार के ग्रामीणों ने हथियारों से लैस होकर वन भूमि पर कब्जा करने पर वन विभाग ने प्रकरण कलिंजरा थाना में काश्तकारों के खिलाफ प्रकरण दर्ज करवाया था। कलक्टर ने वन विभाग की बंजर जमीन पर काश्तकारी करने वाले लोगों को तत्काल पट्टा आंवटन के निर्देश भी दिये थे। थानाधिकारी प्रवीणसिंह ने बताया कि मामला दर्ज किया हैे। वनकर्मियों के पहुंचने पर जमीन पर कब्जा करने वाले आरोपी भाग छूटे।

Ashish vajpayee
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned