बांसवाड़ा तिहरा हत्याकांड : निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर प्रदर्शन पर 200 लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज

बांसवाड़ा तिहरा हत्याकांड : निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर प्रदर्शन पर 200 लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज

Ashish Bajpai | Publish: Sep, 04 2018 02:37:53 PM (IST) Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा. शहर के महात्मा गांधी चिकित्सालय परिसर में शनिवार को तिहरे हत्याकांड को लेकर उत्पन्न हालात के बाद सोमवार को शहर में शांति बनी रही। प्रशासन ने शहर की इंटरनेट सेवा पर रोक हटा ली हालांकि धारा 144 यथावत रही। पुलिस ने रविवार को प्रदर्शन, अफसरों पर चूडिय़ां फेंकनेऔर राजकार्य में बाधा के आरोप में दो सौ लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है। इसके अलावा दुकान, वाहन में तोडफ़ोड़ और घरों पर पथराव के आरोप में भी दो प्रकरण दर्ज कराए गए हैं। तीनों मृतकों के शव रविवार रात सुपुर्दे खाक कर दिए गए। ऐहतियात के तौर पर सोमवार को आरएसी, एमबीसी, क्यूआरटी, ईआरटी सहित पुलिस बल तैनात रहा। इस बीच पुलिस ने हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए अपने प्रयास तेज कर दिए हैं। इस काम में दो टीमों को लगाया गया है।

निषेधाज्ञा में प्रदर्शन पर प्रकरण दर्ज
कोतवाली थाना प्रभारी शैतान सिंह नाथावत की ओर सेे रविवार को निषेधाज्ञा लगी होने के बाद भी एकजुट होकर प्रदर्शन, नारेबाजी, करने और पुलिस पर चूडिय़ा फेंकने फेंकने वालों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया गया है। रिपोर्ट के अनुसार सीआई शैतान सिंह अपने जाप्ते कांस्टेबल चन्द्रवीर सिंह, भोमसिंह व अन्य के साथ कानूनी व्यवस्था ड्यूटी के लिए व प्रकरण के आरोपियों की तलाश के लिए लगे हुए थे। इसी दरम्यान वे दोपहर करीब दो बजे सरकारी वाहन से पृथ्वीगंज पहुंचे, जहां समुदाय की महिलाएं दो-तीन गु्रपों में बारी से इन्द्रा कॉलोनी की ओर से जाती दिखाई पड़ी। पूछताछ के दौरान महिलाओं ने इन्द्रा कॉलोनी स्थित मृतक शब्बीर अहमद के घर शोक व्यक्त करने के लिए जाना बताया।

इसके कुछ देर बाद दो-तीन अलग-अलग समूहों में विभिन्न मार्गों से होती हुई करीब 200 महिलाएं तेजाजी चौक राजतालाब पर एकत्रित हो गई। इन महिलाओं को वहां पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने समझाया। रिपोर्ट में महिलाओं को आसिफ खोडऩवाला, फिरोज पीपा, शाहिदनूर व अन्य कई लोगों की ओर से उकसाने और प्रशासनिक व्यवस्था के विरुद्ध नारेबाजी करवाने का आरोप है। इसके अलावा महिलाओं के झुण्ड को जबरन कस्टम चौराहे की ओर बढाऩे का प्रयास किया। रिपोर्ट के अनुसार महिलाओं से लगातार संवाद जारी रखते हुए अग्र पंक्ति में उपस्थित आसिफ खोडऩवाला, फिरोज पीपा, शबाना, कायराज, कालिअप्पा, फरीदा महिलाओं को समझाईश की गई, लेकिन महिलाएं कस्टम चौराहे की ओर बढऩे को अग्रसर हुई जबकि निषेधाज्ञा 144 लगी हुई थी।

निशाना बनाकर फेंकी गई चूडिय़ां
पुलिस के अनुसार महिलाएं कलक्टर को मौके पर बुलाने पर अड़ी। इस पर 3:20 पर अतिरिक्त जिला कलक्टर हिम्मत सिंह बारहठ मौके पर पहुंचे, जिन्होंने भीड़ से वार्ता करने के अलावा समझाइश का भी प्रयास किया। लेकिन नामजद व्यक्तियों, अन्य महिलाओं ने प्रशासनिक अधिकारियों एवं पुलिस अधिकारियों को निशाना बनाकर उन पर चूडिय़ां फेंकना शुरू कर दिया।

दुकान में तोडफ़ोड़ और लूटपाट का भी आरोप
कोतवाली थाने में चंद्रकांत टेलर ने अपनी दुकान में तोडफ़ोड़ एवं लूटपाट के प्रयास का प्रकरण दर्ज कराया है। कोतवाल शैतान सिंह के अनुसार टेलर ने रिपोर्ट में बताया है कि एक सितंबर के दिन कुछ युवकों ने दुकान में तोडफ़ोड़ करने के साथ लूटपाट की और धमकाया। आरोपियों की यह हरकत सीसीटीवी में कैद भी हो गई है।

सोशल मीडिया पर भडक़ाऊ गतिविधि पर होगी कार्रवाई
जिला कलक्टर भगवती प्रसाद ने बताया कि सोशल मीडिया पर किसी तरह की भडक़ाऊ गतिविधि न हो इसके लिए दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए ऐसी गतिविधियों को बांसवाड़ा जिले की राजस्व सीमा में प्रतिबंधित करने के आदेश दिए हैं। कलक्टर ने बताया कि विद्वेष फैलाने की भावना से सोशल साइट्स पर किसी भी तरह की गतिविधि में लिप्त व्यक्ति के विरुद्ध आईटी एक्ट के प्रावधानों के अनुरूप भी कार्रवाई की जाएगी।

पथराव एवं वाहन में तोडफ़ोड़ का प्रकरण दर्ज
पुलिस के अनुसार रविवार को वाहन के शीशा फोडऩे पर घर पर पथराव के मामले में होली चौक पृथ्वीगंज निवासी हितेष पटेल पुत्र नानालाल पटेल ने कई लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दी है। रिपोर्ट के अनुसार हितेष की कार घर के बाहर खड़ी हुई थी। तभी करीब 150 लोग नारेबाजी करते हुए आए और घरों पर पत्थर मारने लगे। साथ ही बाहर खड़े वाहन के शीशे फोड़ दिए। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर अनुसंधान शुरू कर दिया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned