बांसवाड़ा : मुख्यमंत्री की फटकार का भी नहीं हुआ असर, शायद किसी की जान जाएगी तभी जागेंगे अफसर

ढीले तार के कारण हादसों का खतरा

By: Ashish vajpayee

Published: 07 Jun 2018, 01:47 PM IST

बांसवाड़ा. लगता है मुख्यमंत्री की कुछ महकमों के अफसरों को फटकार का दूसरे अफसरों पर कोई असर नहीं हुआ है। विद्युत निगम के अफसरों की कार्यशैली को देखकर तो ऐसा ही लग रहा है। ढीले तारों के कारण हादसे का खतरा बना हुआ है, लेकिन उनके कानों पर जूं नहीं रेंग रही है। मामला जयपुर रोड़-हाउसिंग बोर्ड लिंक मार्ग का है। क्षेत्रवासियों एवं स्थानीय व्यापारियों ने अजमेर डिस्कॉम के अधिकारियों को कई बार मौखिक एवं लिखित में यह जानकारी दी है कि विद्युत तार ढीले हैं जिसके चलते कभी भी हादसा हो सकता है।

इस मार्ग पर रोजाना दर्जनों भारी वाहनों का आना-जाना लगा रहता है। ट्रांसपोर्ट व्यवसाइयों के भी गोदाम होने से भी वाहनों की आवाजाही होती है। विद्युत तार ढीले होने से भारी वाहनों के यहां से गुजरने के दौरान दुर्घटना होने का अंदेशा बना हुआ है। थोड़ी सी चूक हुई नहीं कि हादसा हुआ नहीं। कई बार ट्रक को निकालने के लिए पहले क्लीनर को ट्रक पर चढकऱ तारों को लकड़ी की सहायता से ऊपर करना होता है। इसके बाद ही वाहन निकल सकता है। लेकिन अफसर जागे तब तो हादसे का भय भागे।

इधर भी बिजली के तारों से मंडराता खतरा
बांसवाड़ा. शहर में बिजली आपूर्ति तंत्र को लेकर बिजली निगम की लचर व्यवस्थाएं कभी भी किसी की जान पर भारी पड़ सकती है। कुछ जबह ट्रांसफार्मर से निकलने वाले तार ऐसे झूल रहे हैं कि कभी भी कोई करंट की चपेट में आ सकता है तो कहीं बीच गली में ही खंभा परेशानी का सबब बना हुआ है।

छात्रावास के बाहर तारों का जंजाल
कलक्ट्री के सामने और शहर के मुख्य इलाके में बने अंबेडकर छात्रावास के बाहर ही निगम की बेरुखी और कार्यशैली की बानगी देखने को मिलती है। गेट के बाहर ही लगे डीपी से निकलने वाले तार जमीन से महज 3 से 4 फीट की ऊंचाई पर ही हैं, जिन्हें एक बच्चा भी आसानी से छू सकता है। इसको लेकर आसपास के लोगों ने बताया कि ये तार ऐसी ही हालत में लम्बे समय से हैं। जिसे कोई सुधारने नहीं आता। यहां हमेशा ही मवेशी इधर-उधर टहलते रहते हैं। जिससे हादसे की प्रबल संभावना बनी रहती है।

पुलिया के बीच रास्ते में पोल
निगम की कार्यशैली मंदारेश्वर स्थित मधुबन कॉलोनी में भी देखने को मिलती है। जहां मोहल्ले से निकलने वाली गली के बीच में ही बिजली को पोल लगा हुआ है। बीच रास्ते में पोल होने के कारण यहां रहने वालों को रोजाना दिक्कत उठानी पड़ती है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि कई बार समस्या से अवगत कराने के बाद भी निगम ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया है।

 

Show More
Ashish vajpayee
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned