मनरेगा के तहत बन रहे शमशान घाट का काम अधूरा छोड़ा, बरसते पानी में तिरपाल तान कर किया शव का अंतिम संस्कार

- मौत के आगे तो सभी बेबस, प्रशासन के आगे भी लोग हुए लाचार
- सर्व समाज जताया आक्रोश, डेढ़ साल से अधूरा पड़ा है शमशान घाट

By: Varun Bhatt

Published: 10 Sep 2019, 12:38 PM IST

जौलाना/बांसवाड़ा. मौत के आगे तो सभी बेबस हैं, लेकिन प्रशासन के आगे भी ग्रामीण ऐसे लाचार हो गए कि उन्हें अपने परिजन की मौत पर उसे अंतिम विदाई देने में भी पसीने छूट गए। डेढ साल हो गए श्मशान घाट का काम बंद पड़ा है और सोमवार को तब गांव के व्यक्ति की मौत पर लोग अंतिम संस्कार करने पहुंचे तो तेज बरसात हो गई और उन्हें तिरपाल पकड़ कर अंतिम क्रियाएं पूरी करनी पड़ी। मामला नाहली पंचायत का है। गांव के गजेंग पुत्र मंगू निनामा की मौत मुम्बई रोजगाररत था और उसे ह्रदयाघात के कारण उसकी मौत हो गई। परिजन उसके शव को पैतृक गांव यह सोचकर लेकर आए थे कि उसका अंतिम संस्कार विधिपूर्वक हो सके। अंतिम यात्रा श्मशान पहुंची और पार्थिव देह अग्रि को समर्पित कर दी गई तभी तेज वर्षा के चलते लोगों को चिता को पानी से बचाने के जतन करने पड़े। कुछ लोग प्लास्टिक का तिरपाल लेकर चिता के दोनों तरफ खड़े हुए और तब क्रियाएं पूरी हुई। इस दौरान लोगों ने मनरेगा के तहत बन रहे श्मशान घाट के काम को अधूरा छोडऩे पर सर्व समाज ने रोष व्यक्त किया और जिम्मेदारों के प्रति नाराजगी जताई।

इशारों की भाषा में मूक बधिर बच्चे बोले- 'दो-तीन रोटी से भरना पड़ता है पेट', स्कूल प्रशासन का दावा- 'भरपेट मिलता है भोजन'

डेढ़ साल से अटका पड़ा है काम
ग्रामीणों ने बताया कि नाहली के मंगलेश्वर के सामने शमशान घाट निर्माण डेढ़ साल से अटका हुआ है। पूर्व में उक्त शमशान घाट पर टीन शेड लगा था जिसे पक्के निर्माण के लिए पंचायत ने हटवा दिया। इसके बाद कई बार पंचायत एवं जन प्रतिनिधियों को इस बारे में अवगत कराया गया। इसके किसी ने सुनवाई नहीं की। ग्रामीणों ने बताया कि इस बारिश की सीजन में हुई कई बार ग्रामीणों को इसी तरह की परेशानियां उठानी पड़ी हैं।

इनका कहना है
मनरेगा में बजट अभाव के चलते कार्य रुका है, जिसे जल्द पूरा करवाया जाएगा। वनिता चरपोटा, सरपंच नाहली
रमेश चन्द्र, विकास अधिकारी अरथूना

Show More
Varun Bhatt
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned