राजस्थान में यहां शव दफनाने पहुंचे और दो गज जमीन के लिए लड़ पड़े दो पक्ष, 50 से अधिक लोगों पर मामला दर्ज

राजस्थान में यहां शव दफनाने पहुंचे और दो गज जमीन के लिए लड़ पड़े दो पक्ष, 50 से अधिक लोगों पर मामला दर्ज

Ashish Bajpai | Publish: Jul, 23 2018 01:00:32 PM (IST) Banswara, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

राजस्थान में यहां शव दफनाने पहुंचे और दो गज जमीन के लिए लड़ पड़े दो पक्ष, 50 से अधिक लोगों पर मामला दर्ज
बांसवाड़ा/सज्जनगढ़. पाली छोटी गांव में रविवार को एक जमीन पर शव दफनाने को लेकर दो पक्ष आमने-सामने हो गए। एक पक्ष ने जहां शव दफन स्थल की जमीन निजी खातेदार की बताई वहीं, दूसरे पक्ष ने भूमि सार्वजनिक होने का तर्क दिया। काफी देर तक चले विवाद को निपटारे के लिए पुलिस और प्रशासन को मौके पर पहुंच समझाइश करनी पड़ी। जिसके बाद दोनों पक्ष शांत हुए। एक पक्ष ने कुशलगढ़ थाने में गांव के तकरीबन 50 लोगों पर उनकी जमीन में शव दफनाने और खड़ी फसल को खुर्दबुर्द करने का मामला दर्ज कराया है।

जानकारी के अनुसार पाली छेाटी के 45 वर्षीय वागजी पुत्र दिता की जहरीले जानवर के काटने से मौत हो गई। इस पर परिजनों और ग्रामीणों ने शव को गांव के पास ही दफना दिया। शव दफनाने की सूचना मिलते ही पाली छोटी निवासी सुमित्रा पत्नी जोरजी मौके पर पहुंची और उक्त जमीन को उसकी खातेदारी की जमीन कह कर हंगामा करने लगी। जिससे उसके बीच और मृतक के परिजनों एवं ग्रामीणों के बीच विवाद बढ़ गया। विवाद होने की सूचना मिलने पर सज्जनगढ़ तहसीलदार गुलाबसिंह और कुशलगढ़ थाना से जाब्ता मौके पर पहुंचा। ग्रामीणों ने बताया कि यह भूमि खातेदारी भूमि नहीं हैं वरन सार्वजनिक उपयोग की है।

जिस पर तहसीलदार ने मौके पर ही जमीन का पट्टा जांच कर खातेदारी भूमि होने की बात ही। वहीं ग्रामीण इस बात पर अड़े रहे कि जमीन सार्वजनिक है। उन्होंने आरोप लगाया कि जमीन का पंजीयन चोरी छूपे करा दिया है जिसको निरस्त किया जाए। उन्होंने बताया कि जमीन 1985 में सार्वजनिक करके धार्मिक स्थल बनाने के लिऐ कुशलगढ़ न्यायालय ने गांव के हित में आदेश दिए थे। इधर खातेदार सुमित्रा ने शव दफनाने एवं खड़ी फसल खुर्दगुर्द करने का आरोप लगा गांव के 50 से अधिक लोगों पर कुशलगढ थाना में मामला दर्ज कराया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned