बांसवाड़ा : 2 महीने पहले कुत्ते ने किया किशोर के चेहरे पर हमला, अब हुई ऐसी हालत कि चिकित्सा विभाग में मचा हडक़ंप

Ashish vajpayee

Publish: Jul, 14 2018 12:36:31 PM (IST)

Banswara, Rajasthan, India
बांसवाड़ा : 2 महीने पहले कुत्ते ने किया किशोर के चेहरे पर हमला, अब हुई ऐसी हालत कि चिकित्सा विभाग में मचा हडक़ंप

रोहिड़ा पहुंची चिकित्सा टीम, 68 लोगों के लगाए टीके, बीमार किशोर को उदयपुर भेजा

बांसवाड़ा. सरेड़ी बड़ी. समीपवर्ती रोहिड़ा गांव में 13 वर्षीय किशोर के रेबीज होने की सूचना से चिकित्सा विभाग में हडक़ंप मच गया। शुक्रवार को चिकित्सा विभाग की टीम ने रोहिड़ा पहुंचकर स्थिति संभाली और उसके परिजन सहित 68 लोगों के टीके लगाए। रोगग्रस्त बालक को इलाज के लिए उदयपुर रवाना किया है। जानकारी के अनुसार करीब 2 माह पहले रोहिड़ा निवासी जयेश पुत्र कमलेश पाटीदार शाम को दोस्तों के साथ खेल रहा था कि तभी उसके मुंह पर किसी श्वान ने काट लिया। परिजन उसे दूसरे दिन निकटवर्ती चिकित्सालय में ले गए। वहां उसका प्राथमिक उपचार किया गया। करीब सात दिन पूर्व बच्चे की तबीयत बिगडऩे पर उसे सरेड़ी बड़ी सामुदायिक चिकित्सालय में दिखाया, जहां से उसे बांसवाड़ा रैफर कर दिया। बांसवाड़ा में डॉ. देवेश गुप्ता ने जांच के बाद उसे उदयपुर रैफर किया। करीब 4 दिन उदयपुर के महाराणा भूपाल चिकित्सालय में उपचार होने के बाद भी हालात में सुधार नहीं होने पर परिजन गुरुवार को घर ले आए, जहां पर उसकी तबीयत और बिगड़ गई।

दौड़ पड़ा चिकित्सा लवाजमा
शुक्रवार सुबह सूचना मिलने पर चिकित्सा विभाग में हडक़ंप मच गया। इस पर सरेड़ी बड़ी चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रितेश जैन, डॉ. अजयदीप वर्मा, डॉ. प्रकाश पटेल नर्सिंग स्टाफ के साथ रोहिड़ा पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया। उसके बाद सीएमएचओ डॉ. ओपी कुलदीप, ब्लॉक सीएमओ डॉ. एमएच शेख भी मौके पर पहुंचे। वहां उन्होंने लोगों की रोग को लेकर चल रही आशंकाओं का निराकरण किया। वहीं प्रभावित परिवार, रिश्तेदार व ग्रामीणों सहित 68 लोगों के एंटी रेबिज के टीके लगाए गए। चिकित्सा अधिकारियों ने परिवारजनों को किशोर की बीमारी की वास्तविकता एवं हालात बताते हुए उसे वापस इलाज के लिए उदयपुर ले जाने के लिए लिए तैयार कियाा। सूचना पर विधायक जीतमल खांट, भाजपा महामंत्री गोविंद सिंह राव ने रोहिडा पहुंच कर जानकारी ली। चिकित्सा विभाग की टीम को इलाज के समुचित प्रबंध करने के निर्देश दिए।

एक्सपट्र्स व्यू
चिकित्साधिकारी डॉ. अजय वर्मा ने रेबीज को लेकर लोगो की आशंकाओं को दूर कया। उन्होंने बताया कि यह रोग एक दूसरे को छूने से बिल्कुल ही नहीं होता है। रेबीज के मरीज की लार एवं खून में इसके विषाणु होते हैं। जो किसी स्वस्थ मनुष्य के मुंह में अथवा रक्त से मिलता है तो रेबीज होने की सम्भावना बढ़ जाती है। ये केवल छूने मात्र से नहीं होता है।

परिजनों के हाल बेहाल
जयेश की बीमारियों को लेकर परिजनों के हाल बेहाल है। दादा कचरू भाई पाटीदार बच्चे की हालात को सहन नहीं कर पा रहे। जयेश की मां, दादी सहित पूरा परिवार जयेश के जल्द ठीक होने की दुआएं कर रहे हें। रोहिड़ा गांव में जयेश के हालात एवं महाराणा भूपाल चिकित्सालय की रिपोर्ट देखने के बाद बच्चों को रेबीज होने की पुष्टि होने पर परिजन को जयेश को वापास उदयपुर चिकित्सालय में भर्ती कर इलाज करवाने के लिए तैयाकर रवाना कर दिया गया है।
डॉ. प्रितेश जैन चिकित्सा अधिकारी सरेड़ी बड़ी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned