VIDEO : जमीन विवाद को लेकर लाठी-भाटा जंग में पिता-पुत्र की मौत, दोहरे हत्याकांड में तब्दील हुई वारदात

Double Murder In Banswara : खमेरा क्षेत्र के बोरपी केरेंग गांव की वारदात, दोपहर में पिता की अंत्येष्टि, शाम को अस्पताल में घायल बेटे की भी मौत

By: Varun Bhatt

Published: 07 Jul 2020, 01:17 PM IST

Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा/घाटोल. खमेरा क्षेत्र में शनिवार शाम जमीन विवाद को लेकर हुआ लाठी-भाटा जंग का मामला सोमवार को दोहरे हत्याकांड में तब्दील हो गया। वारदात में गंभीर घायल प्रौढ़ की मौत पर जैसे-तैसे तीसरे दिन सोमवार को दिन में अंत्येष्टि हुई, तो शाम को जिला अस्पताल में भर्ती उसके जवान बेटे की भी उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। उधर, प्रकरण के आरोपियों की तलाश में पुलिस को अब तक कोई सफलता नहीं मिली है और नई सूचना ने परेशानी बढ़ा दी है। गौरतलब है कि बोरपी केरेंग गांव के औंकार (50) पुत्र लखमा चरपोटा के परिवार पर गांव के ही नारायण पुत्र मानिया और उसके भाई हकरू समेत आठ जनों ने हमला कर दिया था। पुराने भूमि विवाद के चलते हुई वारदात में औंकार समेत चार जने घायल होने पर बांसवाड़ा लाए गए। यहां से रविवार को रैफर औंकार की रविवार को मौत हो गई।

बांसवाड़ा : कोरोना महामारी के बीच भोजन व्यवस्था में झोल, अस्पताल में 60 रुपए के खाने का बिल 95 रुपए

इस पर शाम तक पोस्टमार्टम करवा पुलिस ने शव सौंपा, लेकिन अंत्येष्टि सोमवार दिन में हो पाई। सूत्रों ने बताया कि मामले को लेकर परिजन आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे और उन्होंने शव अपने घर ले जाकर अहाते में रख दिया। उधर, आरोपी इलाका छोडकऱ भाग छूटने से पुलिस टीमें तलाश में भटकती रही। बाद में जैसे-तैसे दोपहर में अंत्येष्टि हुई तो शाम करीब साढ़े पांच बजे बांसवाड़ा के निजी अस्पताल में भर्ती औंकार के 22 वर्षीय बेटे खातुराम की हालत ज्यादा खराब हो गई। इस पर परिजन उसे लेकर एमजी अस्पताल पहुंचे। यहां करीब छह बजे उसने भी दम तोड़ दिया। सूचना पर अस्पताल चौकी पुलिस ने शव मोर्चरी में रखवाकर खमेरा थाने में इत्तला करवाई।

बांसवाड़ा : पीएम आवास की किस्त जारी करने के एवज में ग्राम विकास अधिकारी 2500 रुपए रिश्वत लेते गिरफ्तार

बारिश के टली अंत्येष्टि , रातभर लगा रहा जाब्ता
मामले में सीआई चैलसिंह ने बताया कि रविवार को पोस्टमार्टम के बाद शाम को शव ले जाने के बाद बारिश हो गई। परिजन हमलावरों की गिरफ्तारी पर अड़े, तो डीएसपी कमलकुमार जांगिड की मौजूदगी में समझाइश की गई। जल्द धरपकड़ के आश्वासन पर लोग शांत भी हो गए, लेकिन देरशाम तेज बारिश से अंत्येष्टि नहीं हो पाई। ऐहतियात के तौर पर बोरपी केरेंग में जाब्ता लगा दिया गया। उसके बाद सोमवार को फिर अडऩे की बात जानकारी में नहीं आई। दोपहर में अंत्येष्टि होने की सूचना मिली। फिर शाम को मृतक के बेटे खातुराम की मौत की इत्तला आई। आरोपियों की तलाश में टीमें लगाई हैं। अब मंगलवार को अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned