बांसवाड़ा : आखिरकार मवेशी के हमले से बुजुर्ग की मौत के बाद खुली नगर परिषद की नींद, 13 बैल पकडकऱ शहर से बाहर छोड़े

www.patrika.com/banswara-news

By: deendayal sharma

Updated: 29 Mar 2019, 11:27 AM IST

बांसवाड़ा. शहर की सडक़ों पर हादसों का सबब बने आवारा मवेशियों को लेकर नगर परिषद को एक बुजुर्ग की मौत के बाद सुध आई और गुरुवार को आनन फानन में टीम लगाकर 13 आवारा बैलों को पकड़ शहरी सीमा के बाहर छोड़ा। गौरतलब की शहर की मुख्य सडक़ हो या गली मोहल्लों की सडक़ मवेशियों के जमघट और उनके आतंक ने लोगों का सडक़ों पर चलना मुश्किल कर रखा है। फिर चाहे आजाद चौक इलाके की तंग गलियां हो या खांदू कॉलोनी की चौड़ी सडक़ें। आवारा मवेशियों की समस्या के प्रति नगर परिषद की लंबे समय से बेपरवाही के कारण हालात बिगड़े। कभी संसाधनों तो कभी कार्मिकों की कमी का तर्क देकर परिषद के कर्ताधर्ता समस्या को दरकिनार करते रहे हैं। बुधवार को शहर में बैल के हमले में बुजुर्ग दयाराम पटेल की मौत हो गई तो परिषद की नींद खुली और गुरुवार को बाद जब नगर परिषद ने आनन फानन दस कार्मिकों की फौज लगा कर 13 बैल पकड़े। बाद में इन्हें शहर से करीब दस किमी दूर रतलाम रोड पर ले जाकर छोड़ दिया गया।

Show More
deendayal sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned