वागड़ की नोतरा प्रथा से स्कूल को मिला दान, बच्चों के भविष्य के लिए बना दिया खेल मैदान

Varun Kumar Bhatt

Updated: 14 Jul 2019, 02:45:29 PM (IST)

Banswara, Banswara, Rajasthan, India

वरुण भट्ट. बांसवाड़ा. जज्बा अगर सहयोग का हो तो फिर हर सुविधा और सफलता का योग बनता ही है, उसे कोई रोक नहीं सकता। जनजाति बाहुल्य वागड़ में बरसों से चल रही नोतरा प्रथा (आर्थिक सहयोग) को नया आयाम मिला है। अब तक समाज में एक दूसरे के व्यक्तिगत सहयोग तक सीमित यह परंपरा अब सार्वजनिक हित के काम में इस्तेमाल होने लगी है और इससे विकास की बाधाएं पार करने में मदद मिली है। इस प्रथा का यह नया रूप प्राकृतिक सौंदर्य की गोद में बसे चाचाकोटा के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में देखने को मिला। लोगों ने आर्थिक सहयोग देकर अपनी भावी पीढ़ी के सुनहरे कल के लिए उबड़-खाबड़ जमीन को खेल मैदान के रूप में विकसित कर दिया। इसके लिए करीब साढ़े तीन बीघा से अधिक स्कूल की जमीन को भी अतिक्रमण से मुक्त भी कराया।

#Malala_Day : पहाड़ों के बीच पहाड़ सी जिन्दगी, माही की लहरों सी बहती हमारी मलाला, शिक्षा के लिए विकट हालातों को भी दे रही मात

ऐसे हुई पहल
दरअसल, कागजों में विद्यालय के नाम पांच बीघा जमीन थी, लेकिन करीब डेढ़ बीघा जमीन ही विद्यालय के उपयोग में आ रही थी जिस पर भवन बना हुआ था। शेष जमीन पर अतिक्रमण था। विद्यालय स्टॉफ, स्कूल प्रबंधन समिति एवं ग्रामीणों ने आपसी समझाइश से विद्यालय की जमीन को अतिक्रमण से मुक्त कराया। बाद में खेल मैदान विकास के लिए नोतरा प्रथा के तहत सभी ने आर्थिक सहयोग दिया। प्रारंभिक तौर पर एकत्रित करीब 60 हजार की राशि से टेकरी की कटाई, मैदान समतलीकरण, जमीन का डिमार्केशन सहित अन्य कार्य कर जमीन को मैदान का रूप दिया। इसी प्रकार स्कूल में जर्जरहाल कक्षा-कक्ष का भी ग्रामीणों एवं स्कूल प्रबंधन के सहयोग से जीर्णोंद्धार कराया गया। विद्यालय में आर्थिक सहयोग के लिए नोतरे के लिए बकायदा शिक्षक अभिभावक संगठन की ओर से मार्च 2019 में निमंत्रण पत्र भी छपवाए थे, जो ग्रामीणों तक भेजकर नोतरे के लिए आमंत्रित किया गया था।

#Banswara_News : तीन महीने पहले बनी चाचाकोटा जाने वाली सडक़ पहली बारिश में ही धंसी, दरारों में दिखने लगी भ्रष्टाचार की मिलावट

इनका कहना है
ग्रामीण क्षेत्र में नोतरा प्रथा से आर्थिक सहयोग की परंपरा है। इसी के तहत स्कूल खेल मैदान का विकास किया गया है। आगामी समय में चारदीवारी निर्माण सहित अन्य कार्य प्रस्तावित हंै।
धर्मेंद्र शुक्ला, प्रधानाचार्य राउमावि चाचाकोटा

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned