बांसवाड़ा : लालच में इतना अंधा हो गया था कि बच्चों के पोषाहार की भी नहीं की चिंता, रिश्वत लेने के जुर्म में मिली जेल

पोषाहार प्रभारी से 35 हजार रुपए रिश्वत लेने का मामला

By: Ashish vajpayee

Published: 20 Jan 2018, 12:39 PM IST

बांसवाड़ा. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो चित्तौडगढ़़ की टीम के हत्थे चढ़ा सल्लोपाट थाना इलाके के मोटी टिंबी राजकीय सीनियर सैकण्डरी विद्यालय का प्रिंंसिपल नरेश कुमार टेलर धन के लालच में इतना अंधा हो गया था कि बच्चों के पोषाहार की भी उसे जरा भी चिंता नहीं रही और पोषाहार प्रभारी को पैसे के लिए लगातार परेशान कर रहा था। आरोपित प्रिसिंपल नरेश कुमार प्रोबेशन पीरियड वाले शारीरिक शिक्षक आनंद कलासुआ को भी नहीं छोड़ रहा था। उसकी प्रतिमाह की तन्ख्वाह करीब 13 हजार रुपए ही थी। इसके बावजूद प्रिंसिपल उसे पैसे के लिए परेशान कर रहा था। जब भी वह पीटीआई से बात करता रुपयों की ही बात करता था। इससे शारीरिक शिक्षक लगातार तनाव में भी रहने लग गया था। कई बार तो रुपयों को लेकर दोनों के मध्य हल्की कहासुनी भी हुई हो चुकी थी, लेकिन शारीरिक शिक्षक सब सहन कर रहा था।

सोमवार से लगी थी टीम

आरोपित की धरपकड़ के लिए ब्यूरो की टीम गत सोमवार से प्रिंसिपल के पीछे लगी हुई थी। सोमवार को प्रिंसिपल ने बाहर होने की बात कही। इसके बाद मंगलवार को सत्यापन करवाया। बुधवार को पीटीआई ने चेक क्लीयर नहीं होने का बहाना बनाया ताकि प्रिंसिपल को शक न हो। इसके बाद गुरुवार को ट्रेपिंग की कार्रवाई को अंजाम दिलवाया गया।

बुरी तरह परेशान हो गया था पीटीआई

पीटीआई बच्चों के लिए बेहतर पोषाहार की व्यवस्था करने के साथ उनके बैठने के लिए दरियां एवं अन्य बर्तनों की व्यवस्थाओं में था, लेकिन प्रिंसिपल को इससे कोई लेना देना नहीं था। प्रिंसिपल का कहना था कि इसको कोई नहीं देखता है आप तो मेरा ध्यान रखो। पीटीआई ने एक बार तो यह मानस भी बना लिया था कि प्रिंसिपल अगर हजार या दो हजार रुपए लेगा तो वह उसे दे देगा, लेकिन इतनी बड़ी राशि बच्चों के पोषाहार से निकाल पाना काफी मुश्किल था। इधर, प्रिंसिपल को ब्यूरो ने शुक्रवार को उदयपुर के विशिष्ट न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे पन्द्रह दिन के लिए न्यायिक अभिरक्षा में भेजने के आदेश हुए।

चोर बोला तो हंगामा खड़ा हो गया था

सूत्रों के अनुसार एसीबी की कार्रवाई से पूर्व गत शनिवार को मोटी टिंबी स्कूल में सभी बच्चों एवं शिक्षकों के समक्ष प्रिंसिपल नरेश कुमार ने पीटीआई आनंद को चोर बोल दिया था। इस पर स्कूल में बखेड़ा खड़ा हो गया और पीटीआई भडक़ गया। पीटीआई का कहना था कि पूरा हिसाब सबके सामने है। उसने क्या चोरी की है कोई बताए तो सही। गलत इल्जाम क्यूं लगाया गया। इस बात को लेकर स्कूल परिसर में काफी देर तक हंगामे की स्थिति बन गई। यह बात बच्चों के घरों तक भी पहुंच गई।

Ashish vajpayee
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned