Video : बांसवाड़ा : स्टेयरिंग टूटकर चालक के हाथ में आया, पेड़ से टकराकर स्कूल बस पलटी, 15 बच्चे घायल

Video : बांसवाड़ा : स्टेयरिंग टूटकर चालक के हाथ में आया, पेड़ से टकराकर स्कूल बस पलटी, 15 बच्चे घायल

Ashish Bajpai | Publish: Sep, 05 2018 10:49:54 AM (IST) Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा. घाटोल. लोहारिया थाना इलाके के मूंगाणा गांव के पास मंगलवार सुबह स्कूल के बच्चों से भरी चलती बस का स्टेयरिंग अचानक टूटकर चालक के हाथ में आ गया। इससे बस अनियंत्रित हो गई और पेड़ से टकराने के बाद पलट गई। इससे बस में सवार स्कूल के 15 बच्चे एक शिक्षिका और चालक घायल हो गए। बच्चों एवं शिक्षिकाओं की चीख पुकार मच गई। इसे सुनकर मौके पर ग्रामीण दौडकऱ आए और उन्होंने एक-एक कर स्कूल के बच्चों एवं शिक्षिकाओं तथा बस के चालक को बाहर निकाला। इसके बाद सभी घायलों को घाटोल एवं बांसवाड़ा के निजी चिकित्सालय रैफर करवाया गया।

थाना प्रभारी चैल सिंह ने बताया कि हादसा सुबह करीब पौने आठ बजे हुआ। जब खमेरा थाना क्षेत्र के सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल उदाजी का गढ़ा की बस पड़ोली मार्ग स्थित पुल क्षतिग्रस्त होने से मोरड़ी होकर गुजर रही थी। मंगलवार को भी बस बच्चे को लेकर स्कूल आ रही थी। बच्चों ने पुलिस को बताया कि अचानक रास्ते में चलती बस की स्टेयरिंग टूटकर चालक के हाथ में आ गया। इससे बस अनियंत्रित हो गई और सीधी पेड़ से टकराई और पलट गई। गनीमत रही वाहन के आगे-पीछे कोई वाहन नहीं था। इससे बड़ा हादसा टल गया। लेकिन बच्चों में भय की स्थिति जरूर बन गई।

बस के शीशे तोडकऱ बच्चों को निकाला
सुबह का समय होने से सडक़ पर सरकारी विद्यालयों के छात्र छात्राएं एवं संगोली मंदिर जाने वाले श्रद्धालु व किसान पैदल जा रहे थे। बस चालक ने आवाज लगाकर और बच्चों की चीख पुकार सुनकर लोग दौडकऱ आए और उन्होंने बस के शीशे तोडकऱ घायल विद्यार्थियों को बाहर निकाला और निजी साधनों से बांसवाड़ा स्थित महात्मा गांधी अस्पताल सहित अन्य चिकित्सालयों में पहुंचाया।

अभिभावकों का आरोप
अभिभावकों का आरोप है कि यह बस पिछले दिनों से खराब थी। ओड़वालिया गांव के छात्रों के अभिभावकों ने बताया कि स्कूल प्रशासन से नई बस लगाने एवं सीधे रूट से बच्चों को स्कूल ले जाने की मांग कर चुके हैं। बस सोमवार सुबह करीब पौने आठ बजे मुंगाणा गांव में पलट गई। इधर, स्कूल प्रबंधन का कहना है कि बस में 6 से सात बच्चे ही थे, जिन्हें हल्की चोंट आई है। अभिभावकों के आरोप निराधार है। थाना प्रभारी ने बताया कि मामले में अभी तक कोई रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है।

पहले भी हुए हैं हादसे
स्कूल बसों के हादसे का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी कई हादसे सामने आए हैं जहां बच्चों को गंभीर चोट लगी है। इसके बावजूद चालक परिचालक एवं स्कूल प्रबंधन की ओर से ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इससे बच्चे हादसे का शिकार हो रहे हंै। जानकारों के अनुसार समय पर वाहनों का फिटनेस नहीं होने तथा कुशल चालक परिचालक नहीं होने की वजह से इस तरह के हादसों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है।

...तो हो जाता बड़ा हादसा
सुबह का समय होने से सडक़ पर सरकारी विद्यालयों के छात्र छात्राएं एवं संगोली मंदिर जाने वाले श्रद्धालु व किसान पैदल जा रहे थे। बस चालक ने आवाज लगाकर लोगों को सडक़ से दूर हटने को कहा लेकिन आवाज किसी ने नहीं सुनी। इस बीच बस सडक़ के पास स्थित पेड़ से जा टकराई और पलट गई। इससे राहगीर बच गए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned