Video : बांसवाड़ा : शंखनाद के साथ गूंजा जय कन्हैयालाल की, मंदिरों में उमड़े भक्त, मटकी फोड़ देखने उमड़ा जनज्वार

Video : बांसवाड़ा : शंखनाद के साथ गूंजा जय कन्हैयालाल की, मंदिरों में उमड़े भक्त, मटकी फोड़ देखने उमड़ा जनज्वार

Ashish vajpayee | Publish: Sep, 04 2018 01:09:46 PM (IST) Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा. मंदिरों में गूंजते घंट-घडिय़ाल, भजनों की स्वर लहरियां और नंद घर आंनद भयो, जय कन्हैयालाल की... हाथी-घोड़ा पालकी, जय हो नन्दलाल की... के जयघोषों के साथ सोमवार मध्यरात्रि 12 बजे यशोदानंदन भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। इससे पहले मंदिरों में कृष्ण जन्मोत्सव की झांकियां देखने और अपने आराध्य के दर्शनार्थ श्रद्धालु उमड़ पड़े। वहीं कुशलबाग मैदान में मटकी फोड़ कार्यक्रम देखने के लिए जनज्वार उमड़ पड़ा।

मध्यरात्रि में कृष्ण जन्मोत्सव से ही पूर्व मंदिरों में दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया। रोशनी से लकदक आजाद चौक स्थित रूपचतुर्भुजराय, राधाकृष्ण मंदिर, कल्याणराय, रणछोडऱाय, महालक्ष्मी चौक स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर, भोजापालिया स्थित श्री नृसिंह मंदिर, पीपली चौक स्थित रघुनाथ मंदिर, खांदू कॉलोनी अमरदीप नगर स्थित राधाकृष्ण शंख मंदिर में भगवान की झांकियां सजाई गई। श्रद्धालुओं की रेलमपेल मध्यरात्रि तक बनी रही। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने से मंदिरों में पैर रखने की जगह नहीं थी। कान्हा के जन्मोत्सव पर मंदिरों में विशेष रूप से ‘पंजरी’ का प्रसाद वितरित किया गया।

घरों में भी सजाई झांकियां
श्रद्धालुओं ने अपने घरों में भी भगवान का जन्मोत्सव मनाया। भगवान का पूजन आदि कर झूले में झुलाया। भजन-कीर्तन किए और प्रसाद वितरित किय। वहीं कई लोगों ने अपने घरों में नन्हें बच्चों को कान्हा का वेश धारण कराया।

जयकारों के बीच फोड़ी दही-हांडी
इधर, कुशलबाग मैदान में श्री कृष्ण जन्मोत्सव समिति और कन्हैयालाल शर्मा स्मृति ट्रस्ट के संयोजन में मटकी फोड़ कार्यक्रम देखने हजारों लोग उमड़े। सबसे पहली मटकी फोडऩे का मौका आयोजन समिति को दिया गया और संरक्षक तथा पूर्व राज्यमंत्री भवानी जोशी ने प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी मटकी फोड़ी। इसके बाद शहर की अन्य व्यायामशालाओं के पहलवानों ने करतब दिखाए और जोश के साथ मटकी फोड़ी।

इसमें मारुति व्यायामयशाला सहित वनेश्वर, विद्यार्थी परिषद, पवनपुत्र, पीपलोद, खोडियारमाता, लालीवाव मठ, कालिकामाता, पांडव, केवट-मांझी, भारतमाता मंदिर, निचला घंटाला, एकलव्य और हाटखेड़ा पटेल समाज की व्यायामयशाला के पहलवानों ने बारी-बारी से पिरामिड बनाकर दही-हांडी तोड़ी। मटकी फोडऩे के उपरांत व्यायामशाला प्रमुखों का पगड़ी पहनाकर स्वागत किया और नकद पुरस्कार प्रदान किए गए।

यहां भी आयोजन
श्रीराधाकृष्ण शंख मंदिर में जन्माष्टमी पर विविध कार्यक्रम हुए। प्रवक्ता राजेश भावसार ने बताया कि रूपसेना संगठन के तत्वावधान में मटकी फोड़ कार्यकम हुआ। युवाओं ने करतब भी दिखलाए। पं. नवनीत शास्त्री के आचार्यत्व में यजमान अनिल सराफ परिवार ने भगवान की पूजा-अर्चना की। कार्यक्रम में मंदिर विकास समिति के सदस्यों ने सहयोग किया। बड़ा रामद्वारा में दरियाव महाराज जयंती व कृष्ण जन्माष्टमी मनाई गई। व्यासपीठ से कथावाचक रामनिवास शास्त्री महाराज ने कृष्ण जन्म की लीलाओं का वर्णन किया।

इस अवसर रामस्नेही सम्प्रदाय मेड़ता पीठाधीश्वर रामकिशोर महाराज ने दरियाव महाराज के जन्म पर प्रकाश डालते हुए कहा कि महापुरुष भगवान के अंशावतार रूप में जन्म लेते है और धर्म पुन: स्थापना करते हैं। उन्होंने कहा शिष्य परम्परा से राम नाम का प्रचार किया। संत रामप्रकाश महाराज, उदयराम महाराज मंचासीन थे। दरियाव सत्संग मंडल ने आरती उतारी।मातृशक्ति दुर्गावाहिनी की ओर से जन्मोत्सव मनाया गया। जिसमें 50 बच्चों ने शिरकत की। दुर्गावाहिनी की रोजी केडिया ने बतायाकि मौके पर संगठन की सभी सदस्य उपस्थित रहे।

बच्चों के साथ मनाई जन्माष्टमी
चाइल्ड लाइन की ओर से गणपतपुरा में बच्चों के साथ भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया गया। साथ ही इस मौके पर बच्चों को कानूनी जानकारी दी। बच्चों को बालश्रम न करने के लिए प्रेरित किया गया। इस मौके पर टीम सदस्य कमलेश बुनकर, कांतिलाल यादव व बासुडा कटारा उपस्थित रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned