बांसवाड़ा : पत्रिका की पहल के बाद दादी और अनाथ बच्चों की मदद को बढ़े कई हाथ, समाजसेवी आए आगे

बांसवाड़ा : पत्रिका की पहल के बाद दादी और अनाथ बच्चों की मदद को बढ़े कई हाथ, समाजसेवी आए आगे

deendayal sharma | Publish: Apr, 22 2019 04:52:41 PM (IST) | Updated: Apr, 22 2019 04:52:42 PM (IST) Banswara, Banswara, Rajasthan, India

चिडिय़ावासा (बांसवाड़ा). तलवाड़ा पंचायत समिति के माकोद गांव में अनाथ तीन मासूमों समेत वृद्ध दादी की मदद को समाजसेवियों ने हाथ बढ़ाए हैं। राजस्थान पत्रिका के 21 अप्रेल के अंक में ‘माता-पिता का उठा साया, अब दादी पर आश्रित मासूम’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित होने के बाद समाजसेवियों ने उनकी मदद की पहल की है। माता-पिता की मौत के बाद ये तीनों बालक दादी की मासिक पेंशन 750 रुपए के सहारे जीवनयापन कर रहे हैं। दादी को भी इनके लालन-पालन में बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

उठाएंगे परवरिश का जिम्मा
खबर प्रकाशन के बाद इन बच्चों की सुध लेने आश्रय सेवा संस्थान बालिका गृह बांसवाड़ा के संस्थापक सचिव नरोत्तम पंड्या, संस्थान प्रभारी पुष्पलता दवे रविवार को माकोद गांव में पीडि़त परिवार के घर पहुंचे। वहां ग्रामीणों के समक्ष संस्थान द्वारा बालिका को गोद लेने व परवरिश का जिम्मा उठाने की बात कही। इस पर दादी अलकु बाई ने परिवार जनों एवं ननिहाल पक्ष से राय लेकर जानकारी देने की बात कही। मौके पर माकोद उपसरपंच भारतसिंह संयावत, लेम्प्स उपाध्यक्ष मानसिंह संयावत, श्रीराम युवा मंडल के दिनेश निनामा, नाथूलाल पटेल आदि भी उपस्थित थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned