Video : बांसवाड़ा में बिजली चोरी पर विजिलेंस की पांच टीमों ने तीन इलाकों में मारे छापे, गड़बडिय़ों पर बनाए केस, बवाल भी मचा

deendayal sharma

Updated: 21 Oct 2019, 10:26:42 AM (IST)

Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा. जिले में बढ़ती बिजली चोरी और छीजत से नुकसान पर अजमेर विद्युत वितरण निगम की टीमों ने अचानक पहुंचकर छापे मारे। शहर के तीन इलाकों में भारी पुलिस बल के साथ अचानक पांच टीमें पहुंचने से हडक़ंप मच गया।निगम के अधीक्षण अभियंता विजिलेंस डीएस शेखावत के निर्देशन में शाम चार बजे बाद सक्रिय हुई अजमेर, उदयपुर, डूंगरपुर और बांसवाड़ा के अधिकारियों की टीमों ने शहर के काली कल्याण धाम, कालिकामाता और इंदिरा कॉलोनी फीडर से जुड़े क्षेत्रों की टोह ली। टीमों में बांसवाड़ा विजिलेंस से अधिशासी अभियंता एबी ठाकुर, डूंगरपुर से कुलेश्वरसिंह, सहायक अभियंता किरोड़ीलाल मीणा, कुशलगढ़ से किरणकुमार, बांसवाड़ा के एम फर्नांडीस के साथ सहायक अभियंता प्रथम सुनील पंड्या भी जुटे।

उनके साथ डूंगरपुर, बांसवाड़ा से आए विद्युत चोरी निरोधक थानों के जाब्ते के अलावा स्थानीय पुलिस बल मौजूद रहा। अधिकारियों ने हालांकि देरशाम तक तीनों फीडर से संबंधित क्षेत्रों में नमूने के तौर पर ही कार्रवाइयां कीं, लेकिन एक साथ बड़ी संख्या में वाहन और पुलिस बल पहुंचने से लोग एकबारगी सकते में आ गए। विजिलेंस की जांच के बाद कार्रवाइयां देररात तक जारी रहीं। अधिकारियों ने गोपनीयता का हवाला देकर इस बारे में अभी कुछ कहने से इनकार कर दिया।

राजतालाब क्षेत्र में वीसीआर को लेकर मचा बवाल

विजिलेंस की दो टीमों द्वारा राजतालाब क्षेत्र में एक-दो मकानों की चैकिंग के बाद तत्काल मीटर और सर्विस लाइन बदले गए। इस दौरान एक जगह वीसीआर भरने में वक्त लगा, तो क्षेत्र के लोग उनके यहां ही गरीब लोगों के घरों पर कार्रवाई करने का आरोप लगाते हुए शोर-शराबा करने लगे। इस शोरगुल के बीच, निगम का एक अधिकारी वीसीआर शीट की कॉपी देने से चूक गया और निकलने लगा। इस पर लोग मनमानी करने के आरोप लगाते हुए उखड़ गए। मौके पर बवाल बढ़ा, तो एईएन प्रथम पंड्या ने समझाइश की। बाद में मौका कार्रवाई करटीमें लौटी।

दिनभर बिजली बंद रहने से आई दिक्कत

सूत्रों ने बताया कि टीमें सुबह से जुटना तय थी, लेकिन दिनभर शहर के कई इलाकों में बिजली बंद रही। इसके चलते विजिलेंस टीमें शांत बैठी रहीं और शाम को जांच में जुटी। इसके चलते करीब तीन घंटे ही जांच-पड़ताल हो पाई।

क्षेत्र विशेष को निशाना बनाने के आरोप भी

विजिलेंस जांच के दौरान अजीब हालात उस समय भी बने, जब कुछ लोग क्षेत्र विशेष को निशाना बनाने के आरोप लगाते हुए उखड़ गए। बाद में अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि जिन इलाकों में छीजत सबसे ज्यादा हैं, उन्हें उच्चस्तर से चिह्नित करने के बाद बाहर से टीमें भेजी गई हैं और जो गलत है, उसके खिलाफ ही कार्रवाई होगी। बाद में लोग नरम पड़े।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned