VIDEO : राजस्थान में पेट्रोल-डीजल की कीमतों ने तोड़ी जनता की कमर, रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचे भाव, जानिएं क्या है दाम...

Petrol-Diesel Price Hike In Rajasthan, Petrol-Diesel Rate In Banswara : 7 जून से लगातार बढ़ रहे पेट्रोलियम पदार्थों के भाव, 21 दिनों में पेट्रोल 9.02 रुपए और डीजल 10.23 रुपए का इजाफा

By: Varun Bhatt

Updated: 28 Jun 2020, 04:21 PM IST

Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा. पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी की कमर तोड़ कर रख दी है। सात जून से भावों में तेजी का जो दौर शुरू हुआ लगातार बना हुआ है। शनिवार को 21वें दिन पेट्रोल के दाम 26 पैसे चढकऱ 88.73 रुपए और डीजल के भाव 21 पैसे की तेजी के साथ 82.32 रुपए प्रति लीटर के अपने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गए। 7 जून को बांसवाड़ा शहर में पेट्रोल का दाम 79.71 रुपए प्रति लीटर था। जिसमें 21 दिनों में 9.02 रुपए प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। वहीं 7 जून को डीजल का भाव 72.09 रुपए था। जिसमें 10.23 रुपए प्रति लीटर का उछाल आया है। सरकारी तेल कंपनियों ने ईंधन की कीमतों में किए जाने वाले रोजाना बदलाव को दोबारा शुरू कर दिया।

राजस्थान में 10वीं कक्षा की किताब में महाराणा प्रताप से जुड़े तथ्यों में बदलाव, करणी सेना ने जताया विरोध

पेट्रोल-डीजल के महंगे होने का क्या है कारण
दरअसल, मार्च में सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइड ड्यूटी में 3 रुपए प्रति लीटर का इजाफा कर दिया था। वहीं लॉकडाउन में ढील के बाद अचानक से पेट्रोल और डीजल की मांग बढ़ी है। रुपए में गिरावट से भी तेल कंपनियों की चिंता बढ़ गई है। लॉकडाउन के बीच तेल कंपनियों को नुकसान उठाना पड़ा था, अब वे इसकी भरपाई करना चाहेंगी। कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के कारण सरकारी तेल विपणन कंपनियों ने 16 मार्च से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में रोजाना आधार पर होने वाले बदलाव को बंद कर दिया था। 7 जून को 80 दिनों बाद कंपनियों ने देश में एक साथ पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की थी।

खपत में भी आई कमी
लॉकडाउन के चलते पेट्रोल-डीजल का बाजार पूरी तरह से बंद हो गया था। वहीं लॉकडाउन के खूलने के बाद भी सामान्य दिनों की तुलना में पेट्रोलियम पदार्थों की बिक्री काफी हद तक प्रभावित हुई है। इन दिनों सार्वजनिक परिवहन पूरी तरह से सक्रिय नहीं है। स्कूल-कॉलेज बंद है और विद्यार्थी वर्ग घरों में है। कई कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम कर रहे है। आमजन भी जरूरत पडऩे पर ही बाजार निकल रहा है। ऐसे कई अन्य कारणों की वजह से पेट्रोल-डीजल की खपत में कमी आई है।

बांसवाड़ा : महामारी के दौर में सरकारी कर्मचारियों के खातों में पहुंची सहायता राशि, जरूरमंद रहे वंचित

हर रोज सुबह 6 बजे बदलती है कीमत
पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत का 70 प्रतिशत भाग तो सिर्फ एक्साइज ड्यूटी और वैट के रूप में होता है। इन दिनों बेस प्राइज 18 रुपए प्रति लीटर है। इस पर एक्साइज ड्यूटी करीब 33 रुपए और अन्य टैक्सेज करीब 16 रुपए प्रति लीटर है। गौरतलब है कि रोजाना सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीजल के भाव में बदलाव होता है। जिसमें एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन सहित अन्य चीजें शामिल होती है।

उपभोक्ताओं की जुबानी
- शहर के जावेद मोहम्मद ने बताया कि लॉकडाउन के बाद से आम लोग आर्थिक रूप से पिछड़ गए है। आमदनी नहीं होने से घर का खर्च चलाना भी मुश्किल पड़ रहा है। ऐसे में रोजाना पेट्रोल-डीजल के दामों में इजाफा होने से लोगों की परेशानी ज्यादा बढ़ गई है। सरकार को ऐसे समय आम जनता को राहत देने के प्रयास करने चाहिए।
- सामरिया के गौतमलाल मईड़ा ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के भाव कम होने के बावजूद सरकार की ओर से उसका लाभ जनता तक नहीं पहुंचाया गया। इसके विपरित टैक्स बढ़ाकर मध्यम वर्गीय और गरीब परिवारों पर भार डाला जा रहा है, जिससे असंतोष की स्थितियां बन रही है। पेट्रोलियम पदार्थों के दामों में करीब 20 फीसदी की कमी होनी चाहिए।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned