Video : बेणेश्वर से उठा हजारों कावडिय़ों की भक्ति का ज्वार, मंदारेश्वर पहुंचकर जलधार से लगा विराम

deendayal sharma

Updated: 12 Aug 2019, 12:18:36 PM (IST)

Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा/गनोड़ा. माही, सोम व जाखम नदियों के जलसंगम तीर्थ बेणेश्वर से रविवार को शुरू हुआ कावड़यात्रा का ज्य्वार सोमवार को बांसवाड़ा जिला मुख्यालय पर अरावली की कंदरा में बिराजे भगवान मंदारेश्वर के जलाभिषेक के साथ शांत हुआ। ‘बोल बम’ और भगवान शिव के जयकारों, के बीच हजारों कावडिय़ों ने पहुंचकर यहां मध्यरात्रि बाद से मंदारेश्वर शिवालय में जलाभिषेक आरंभ किया, जो सोमवार मध्याह्न बाद तक चला।

बांसवाड़ा : इन युवाओं का बेणेश्वर से दंडवत करते 45 किमी का सफर, देर रात मंदारेश्वर पहुंचकर दिया कावडय़ात्रा को विराम
इससे पहले कावड़ यात्रा संघ के तत्वावधान में दो दिवसीय कावड़ यात्रा के लिए रविवार सुबह कावडि़यों के जत्थे बेणेश्वर पहुंचे। इस बार पुलों पर पानी के कारण कावडि़ए बेणेश्वर मंदिर के दर्शन नहीं कर पाए, तो स्नान, ध्यान, पूजन-अर्चना के बाद कलशों में पवित्र जलभरकर कावड़ों के साथ कूच किया। नंगे पांव पैदल चलने वाले तो हजारों थे लेकिन कुछ दण्डवत करते हुए मंदारेश्वर पहुंचे। रात बारह बजे मंदारेश्वर में जलाभिषेक का सिलसिला चला जो सुबह तक अनवरत चला। यहां संघ पदाधिकारियों व दत्त मंदारेश्वर ट्रस्ट की ओर से व्यापक व्यवस्थाएं की गई थीं।
फुहारों ने उत्साह किया दुगुना
कावड़ यात्रियों का उत्साह फुहारों और रिमझिम ने दुगुना कर दिया। अलसुबह से ही भक्त बारिश में भीगे तन से मन में शिवभक्ति की उठती हिलोर के बीच मंदारेश्वर के लिए बढ़ते दिखाई दिए। इनमें बड़ी संख्या में बच्चे, युवतियां और महिलाएं भी थीं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned