बांसवाड़ा तिहरा हत्याकांड : आरोपियों की जमीन कुर्क करने की कार्रवाई, इस्तगासा एडीएम को भेजा

बांसवाड़ा तिहरा हत्याकांड : आरोपियों की जमीन कुर्क करने की कार्रवाई, इस्तगासा एडीएम को भेजा

Ashish Bajpai | Publish: Sep, 08 2018 01:35:57 PM (IST) Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा. शहर के एमजी चिकित्सालय परिसर में सप्ताहभर पहले तिहरे हत्याकांड के आरोपी पिता-पुत्र सहित चार जनों को पुलिस ने शुक्रवार को न्यायालय में पेश किया, जहां से उन्हें पुलिस रिमांड में रखने के आदेश हुए। आरोपी पन्नालाल सरगड़ा, उसके बेटे नयन व भाई के लडक़े अजय एवं नरेश को पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार किया था। पुलिस अधीक्षक कालूराम रावत ने बताया कि आरोपियों के कब्जे से वारदात में प्रयुक्त हथियारों की बरामदगी के साथ ही अन्य सबूत एकत्रित किए जाएंगे। एसपी ने बताया कि जमीन की कुर्की (145 सीआरपीसी) की कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है। इसके लिए अलग से एक पुलिस कर्मियों की टीम भी लगी हुई है। इसका इस्तगासा कोतवाली थाने से उपखण्ड कार्यालय भेज दिया गया है। आरोपियों से बांसवाड़ा पुलिस उप अधीक्षक घनश्याम शर्मा एवं कोतवाली थाना प्रभारी शैतान सिंह नाथावत ने लंबी पूछताछ की है। कई घंटे की पूछताछ में आरोपियों ने कई राज उगले है।

हत्याकांड से पूर्व इन्द्रा कॉलोनी में खींचतान
पुलिस के अनुसार हत्याकांड से पूर्व 31 अगस्त की रात शब्बीर एवं उसके लडक़ों तथा पन्नालाल के मध्य झगड़ा हुआ था। पन्नालाल शाम करीब सात इन्द्रा कॉलोली से होकर अपने घर जा रहा था। रास्ता में एक पार्षद से उसने कुछ देर बातें की। इसके बाद वहां से आगे बढ़ा तो शब्बीर तथा सईद मिले। इस पर तीनों के मध्य गाली गलौच और खींचतान हो गई। इस बीच सईद एवं शब्बीर ने उसके सिर पर बेसबॉल का डंडा सिर पर मार दिया। इससे पन्नालाल लहूहुहान हो गया और वहां से चला गया। इस खींचतान में पन्नालाल का मोबाइल तथा कुछ रुपए वहीं गिर पड़े। पन्नालाल जब घर पहुंचा तो उसने दूसरे मोबाइल से अपने मोबाइल पर फोन किया जो मृतक सईद ने उठाया। इस पर सईद ने उससे धमकी भरे लहजे में कहा था कि दम है तो अपना मोबाइल ले जा। इसके बाद पन्नालाल कोतवाली थाने पहुंचा और अपनी आपबीती बताने। यह बात जब शब्बीर को पता लगी तो वह भी कोतवाली आ गया और पुलिस को उक्त मामले की रिपोर्ट देने के आमाद हुआ। साथ ही शब्बीर ने बताया कि उसके साथ ही पन्नालाल की ओर से मारपीट की गई है। इस बात पर पन्नालाल के सिर पर चोट देख पुलिस ने उसको महात्मा गांधी चिकित्सालय भिजवाया।

झगड़े के बाद तीनों युवक पहुंचे
पुलिस सूत्रों के अनुसार झगड़े की सूचना पर रतलाम इंजन का सामन लेने गया अजय रात को वापस बांसवाड़ा आया। उस समय हॉस्पीटल में पन्नालाल के साथ उसकी पत्नी लक्ष्मी तथा अजय ही थे। रात के समय तीनों के मध्य कुछ बातें हुई होंगी। इसके अलग दिन एक सितंबर को स्कूटी पर नयन तथा नरेश साथ में महात्मा गांधी चिकित्सालय पहुंचे। नयन स्कूटी चला रहा था और नरेश पीछे बैठा हुआ जिसके पास चाकू था, जिसको उसने कपड़े में लपेटकर रखा हुआ था। वहीं अजय कार लेकर आया जो अपनी सुरक्षा के लिए कार में हमेशा सरिया रखता था। वारदात के दिन भी कुछ ऐसी ही स्थितियां सामने आई।

यहां से निकले तो कहीं नहीं रुके
एसपी रावत ने बताया कि आरोपी यहां से निकले तो रास्ते में कहीं भी नहीं रुके। आरोपी बांसवाड़ा से आसपुर, सलूंबर और फिर उदयपुर पहुंचे। इसके बसाद नाथद्वारा, चारभुजा और फिर नाड़ोल पहुंचे। एसपी ने बताया कि नाड़ोल में आरोपियों की कार खराब हो गई थी। इसके चलते वहां उनको रुकना पड़ा था। इसके बाद उन्होंने कार ठीक करवाई और फिर वहां से निकल लिए।

यह थी वारदात
एक सितंबर को शहर के महात्मा गांधी चिकित्सालय परिसर में इन्द्रा कॉलोनी निवासी शब्बीर पुत्र सिकंदर एवं उसके बेटे शरीफ तथा सईद को जमीन व रास्ते संबंधी पुराने विवाद को लेकर पन्नालाल सरगड़ा व उसके साथ अन्य अपराधियों ने धारदार हथियारों से ताबड़तोड़ हमला करके मौत के घाट उतार दिया था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned