scriptWhat kind of atrocity was this atrocity on suspicion of human traffick | मानव तस्करी के संदेह में यह कैसा जुल्म, बालिकाओं को ट्रेन से उतरवाया | Patrika News

मानव तस्करी के संदेह में यह कैसा जुल्म, बालिकाओं को ट्रेन से उतरवाया

What kind of atrocity was this atrocity on suspicion of human trafficking, got the girls off the train बांसवाड़ा जिले के विभिन्न गांवों की 12 बालिकाएं छह दिन से केरल में कोझीकोड़ के एक बालिका केंद्र के संरक्षण में हैं। उनके अभिभावक भी साथ में है, किंतु केंद्र संचालक किसी की नहीं सुन रहे हैं। परिजन इन बच्चों को एर्नाकुलम में निशुल्क संचालित एक स्कूल में भर्ती कराने के लिए ले जा रहे थे, किंतु रेलवे पुलिस ने कोझीकोड़ में उन्हें ट्रेन से उतरवा लिया।

बांसवाड़ा

Published: August 01, 2022 01:46:34 pm

What kind of atrocity was this atrocity on suspicion of human trafficking, got the girls off the train बांसवाड़ा जिले के विभिन्न गांवों की 12 बालिकाएं छह दिन से केरल में कोझीकोड़ के एक बालिका केंद्र के संरक्षण में हैं। उनके अभिभावक भी साथ में है, किंतु केंद्र संचालक किसी की नहीं सुन रहे हैं। परिजन इन बच्चों को एर्नाकुलम में निशुल्क संचालित एक स्कूल में भर्ती कराने के लिए ले जा रहे थे, किंतु रेलवे पुलिस ने कोझीकोड़ में उन्हें ट्रेन से उतरवा लिया।
मानव तस्करी के संदेह में यह कैसा जुल्म, बालिकाओं को ट्रेन से उतरवाया
मानव तस्करी के संदेह में यह कैसा जुल्म, बालिकाओं को ट्रेन से उतरवाया
सूत्रों के अनुसार बांसवाड़ा के विभिन्न गांवों की बालिकाएं अभिभावकों के साथ रेल से केरल के एर्नाकुलम जा रही थीं। 26 जुलाई को उन्हें कोझीकोड़ के रेलवे स्टेशन पर उतार कर बालिका केंद्र में ले जाकर रख दिया। इसके बाद से बालिकाएं केंद्र में ही हैं। परिजन बालिकाओं को छोडऩे की गुहार लगा रहे हैं, किंतु सुनवाई नहीं हो रही है।
स्कूल में कराना था प्रवेश

बालिकाओं के साथ गए अभिभावक माचा गांव के विनोद वसुनिया, महूड़ी के कमलेश ताबियार, सुरेश कुमार ने ‘राजस्थान पत्रिका’ को बताया कि वह एर्नाकुलम में चलने वाले करूणा भवन नामक स्कूल में बच्चों को प्रवेश दिलाने जा रहे थे। यहां पहले उनके सहित आसपास के गांवों के दूसरे बच्चे पढऩे गए थे। वहां बच्चों ने अच्छी सुविधा की जानकारी दी। इस पर वे नए सत्र में प्रवेश दिलाने के लिए अपनी बच्चियों को ले जा रहे थे कि रेल में एक साथ छोटी बच्चियों को देखकर जीआरपी ने उन्हें पकड़ लिया और सीडब्ल्यूसी को सौंप दिया। वहां पहुंचने पर यह भी पता चला कि जिस स्कूल में प्रवेश कराना था, वह पंजीकृत नहीं है। लोकेश व साइमन नाम के दो लोग पुलिस कस्टडी में है।
नहीं लौटा रहे दस्तावेज

अभिभावकों का आरोप है कि बच्चियों को बालिका गृह में भेजने के बाद सभी बच्चियों के आधारकार्ड, राशन कार्ड, भामाशाह कार्ड, जनाधार कार्ड, पहचान पत्र, पिता के पेनकार्ड, अंकतालिकाएं, स्कूल की टीसी आदि भी वहां पुलिस ने ले ली है। मांगने पर भी उसे लौटाया नहीं जा रहा है। दस्तावेज नहीं लौटने से भी वहां रहने में दिक्कतें हो रही हैं।
धमकी का आरोप

अभिभावकों ने केंद्र में बच्चियों के मोबाइल पर वीडियो बनाने पर वहां की पुलिस पर धमकी देने का भी आरोप लगाया। साथ ही बताया कि उन्होंने स्टाम्प पर लिखित में दिया है, फिर भी बच्चियों को सौंपा नहीं जा रहा है। अभिभावक कमलेश ने केंद्र में बच्चियों को पीटने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब तक यह भी नहीं बताया कि बच्चियों की सुपुर्दगी कब करेंगे। बिना किसी गलती के अकारण उन्हें परेशान किया जा रहा है।
यह बच्चियां बालिका केंद्र में

जिले के गांव थापड़ा की लवीना पुत्री सुरेश, माचा की खुशी पुत्री विनोद, खुन्दनी रूपा की सृष्टि पुत्री संजय, सरपोटा की अल्फा पुत्री विजन, खोरा की महिमा पुत्री रमेश डामोर, धनपुरा की करूणा पुत्री राजू पारगी व गुड्डी पुत्री राजू पारगी को केंद्र में रखा है। वहां उनके साथ खुंदनी की एंजल पुत्री शीलू डामोर, गराडिय़ा की जॉनी सुखराम, महूड़ी की महिमा पुत्री कमलेश और उसकी अश्विना, जोगड़ीमाल की निशा पुत्री मोतिया कटारा भी हैं।
मानव तस्करी का संदेह
मामले में रेलवे पुलिस स्टेशन कोझीकोड़ के इंस्पेक्टर जमशीद ने कहा कि मानव तस्करी के संदेह के आधार पर कार्रवाई की गई है। सभी प्रकार की जांच-पड़ताल होने तक बच्चियों को सीडब्ल्यूसी के केंद्र में रखा है। जबरन बंद करने जैसी कोई बात नहीं है।
इनका कहना है...

जिले की 12 बच्चियों को सीडब्ल्यूसी केंद्र में रखने की जानकारी कोझीकोड़ से मिली है। उनसे निरंतर संपर्क में हैं और साथ गए अभिभावकों को सौंपने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने को कहा है, ताकि उन्हें परेशान न होना पड़े।
दिलीप रोकडिय़ा, अध्यक्ष, बाल कल्याण समिति, बांसवाड़ा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्व
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.