जज के साथ अधिवक्ताओ ने की मारपीट , जज ने मुकदमा दर्ज करने को लिखा पत्र, देखें वीडियो

Ruchi Sharma

Updated: 09 Nov 2019, 08:32:19 AM (IST)

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

बाराबंकी. दिल्ली में हुए वकीलों अौर पुलिस के विवाद के बाद उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को सभी न्यायालयों में वकील यायिक कार्यों से विरत रहे। इसकी वजह से किसी भी कोर्ट में कोई काम नहीं हुआ। उत्तर प्रदेश बार काउंसिल ने पहले से ही न्यायिक कार्य से विरत रहने की घोषणा की थी। वकीलों के काम न करने की वजह से चिन्मयानंद मामले में कोई सुनवाई नहीं हो सकी। इस बीच बाराबंकी में जज अौर उनके स्टाफ के साथ बदसलूकी की गई। जज ने एसपी को इस संबंध में कार्रवाई के लिए पत्र लिखा कर मुकदमा लिखने का अनुरोध किया है।

बाराबंकी में जज के साथ अधिवक्ताओं ने की मारपीट

बाराबंकी में काफी संख्या में इकट्ठा हुए वकील एक जज सन्दीप जैन के कार्यालय में घुस कर उत्पात मचाने लगे। सन्दीप जैन मोटर दुर्घटना दावा अभिकरण के पीठासीन अधिकारी हैं। सन्दीप जैन का कहना है कि वह अपने कार्यालय में बैठ कर कुछ जरूरी आदेश अपने आशुलिपिक से लिखवा रहे थे। तभी 40- 50 वकील झुण्ड बना कर उनके कार्यालय में घुस आए और उनसे कालर पकड़ कर अभद्रता कर कहने लगे कि हड़ताल के दिन काम क्यों करवा रहे हो। उनके अलावा वकीलों ने उनके आशुलिपिक , गनर और स्टाफ के लोगों के साथ भी गाली गलौज और अभद्रता की। मोबाइल से फोटो खींचने पर मोबाइल फोन छीन लिया और जम कर उत्पात मचाया। इस घटना का विवरण देते हुए सन्दीप जैन ने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर दोषी वकीलों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किये जाने की मांग की है ।

सन्दीप जैन के कार्यालय में क्लर्क के पद पर तैनात रिंकू ने बताया कि आज 50-60 वकील एक साथ साहब के कमरे में आ धमके और गाली गलौच करने लगे । उनका कहना था कि आज बाइकाट है आज काम क्यों कर रहे हो । वकीलों ने इस दौरान साहब के साथ - साथ पूरे स्टाफ के साथ गाली गलौच किया । स्टेनो रूम में यह सब काफी देर तक चलता रहा ।

इस मामले में बाराबंकी के अपर पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि जैसा जिलाधिकारी महोदय को ज्ञापन वकीलों ने दिया था कि आज उनकी हड़ताल है उसी क्रम में आज कुछ वकील एक जज संदीप जैन के यहां पहुंच कर उनसे व उनके स्टाफ से अभद्रता किए है । इस सम्बन्ध सन्दीप जैन की तहरीर पर अज्ञात वकीलों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है । आगे जाँच में जो तथ्य सामने आएंगे उसके अनुसार कार्यवाही की जाएगी । अभी अभद्रता की बात सामने आई है और सरकारी कार्य में बाधा डालने का अभियोग पंजीकृत किया गया है । सीसीटीवी कैमरे की भी जांच में यदि कोई फुटेज मिलता है तो उसे भी संज्ञान में लिया जाएगा ।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned