कोरोना के खिलाफ जंग में आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, बचाव को कर रहीं जागरूक

आशा बहुएं और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर दस्तक देकर दिमागी बुखार व अन्य संक्रामक बीमारियों के साथ ही कोरोना वायरस के बारे में भी लोगों को जागरूक करेंगी...

बाराबंकी. कोरोना वायरस के भयानक प्रकोप से सूबे के लोगों को सुरक्षित रखने के लिए हर स्तर पर की गयी तैयारियों एवं जारी अलर्ट के साथ ही शासन ने एक नया निर्देश जारी किया गया है। इसमें आशा बहुएं और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर दस्तक देकर दिमागी बुखार व अन्य संक्रामक बीमारियों के साथ ही कोरोना वायरस के बारे में भी लोगों को जागरूक करेंगी। ग्रामीणों को कोरोना से बचाव के लिए स्वच्छता के लिए प्रेरित किया जा रहा है साथ ही तहसीलों में रैपिड रिस्पांस टीम गठित कर दी गई है।


अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं नोडल डॉ आरसी वर्मा ने बताया विशेष सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य वी. हेकाली झिमोमी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग में कोरोना वायरस के प्रति विशेष सतर्कता बरतने की बात कही। उन्होंने ने बताया कोरोना वायरस से बचाव के लिए गांवों में विशेष जागरूकता अभियान शुरु किया गया। अभियान के तहत आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर ग्रामीणों खासकर महिलाओं को कोरोना के प्रति जागरूक कर रही हैं। ग्रामीणों को कोरोना से बचाव के लिए स्वच्छता के लिए प्रेरित किया जा रहा है साथ ही हिदायत दी जा रही है कि किसी भी व्यक्ति को थोड़ा सा भी संदेह या लक्षण दिखने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर लाकर इलाज कराए, जिससे समय रहते व्यक्ति को निरोगी व स्वस्थ्य बनाया जा सके।


सीएमओ डा रमेश चंद्र ने आमजन से अपील किया है कि अगर किसी को भी विदेश से आया व्यक्ति बीमार दिखे, तो कंट्रोल रूम नम्बर 05248-229916 पर तत्काल सूचना दें।


जिले में सभी को किया गया अलर्ट
जिला कार्यक्रम अधिकारी प्रकाश कुमार चौरसिया ने बताया चिकित्सा एवं बाल विकास विभाग के सयुंक्त रूप से निर्देशित किया गया है कि जनपद के सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करें कि वे घर –घर जाकर लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए बार-बार साबुन से हाथ धोने, हाथ मिलाने से बचने एवं हाथों को बार-बार आंख-नाक में न लगाने हेतु जागरूकता का प्रसार करें। डीसीपीएम सुरेन्द्र कुमार ने बताया कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में विशेष सचिव द्वारा दिये गए निर्देशों के क्रम में जनपद के समस्त ब्लॉकों में आशा क्लस्टर मीटिंग के दौरान करीब 3 हजार आशा कार्यकर्ताओं एवं 129 आशा संगिनी को एक साथ कोरोना वायरस के संबंध में प्रशिक्षित किया गया है, ताकि आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर कोरोना वायरस से बचाव के प्रति शत-प्रतिशत लोगों को जागरूक कर सकें।


कोरोना वायरस के लक्षण

कोरोना के लक्षण साधारण सर्दी-जुकाम के लक्षणों से मिलते जुलते हैं इसमें नाक बहना, खांसी, गले में खराश, सिरदर्द, सांस लेने में तकलीफ और बुखार जैसे लक्षण उभरते हैं। ऐसी स्थिति में स्वयं उपचार नहीं लेकर चिकित्सक की सलाह से उपचार लें वायरस को लेकर बरती जा रही सतर्कता सरकार के निर्देशों के अनुसार सभी आवश्यक कदम उठाए गए हैं और अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड भी स्थापित किया गया है। विदेश से यात्रा करने वाले लोगों पर स्वास्थ्य महकमा नजर बनाए हुए है जांच में जनपद में अभी तक किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस के कोई लक्षण नहीं पाए गए हैं इन लोगों की 28 दिनों तक निगरानी की जाएगी।


शासन की ओर से दिये गये प्रमुख निर्देश

अध्यापक और गाँवों में ग्राम-प्रधान कोरोना के प्रति जन जागरूकता फैलाएं, किसी भी प्रकार की अफवाह या भ्रामक सूचना प्रचारित न होने दें, सैम्पल कलेक्शन, ट्रांसपोर्टेशन एवं आइसोलेशन वार्ड के मामले में मानकों का पालन हो, विदेश से आने वालों की ट्रैकिंग व निगरानी में नवीनतम दिशा-निर्देशों के अनुसार ही काम हो।

यह भी पढ़ें: जनता कर्फ्यू से ब्रेक हो जाएगी संक्रमण की श्रृंखला, 14 घंटे तक मानव कैरियर न मिलने से ऐसे दम तोड़ देगा कोराना

Corona virus
Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned