किसानों ने पेट काटकर केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए दी मदद, जिलाधिकारी को सौंपा चेक

किसानों ने एक बड़ी राशि केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए भेजने का काम किया है...

बाराबंकी. भारत में जब भी कहीं कोई आपदा आई है तो देश के कोने-कोने से लोग मदद के लिए खड़े हुए हैं। ठीक इसी तरह केरल की त्रासदी से पीड़ितों की मदद के लिए बाराबंकी किसान यूनियन खड़ी हुई है। बाराबंकी के जिलाधिकारी ने भी किसानों के इस काम की सराहना करते हुए कहा कि वह मुख्यमंत्री राहतकोष के माध्यम से केरल के आपदा पीड़ितों के लिए यह मदद वहां पहुंचाएंगे।

 

बाढ़ पीड़ितों के लिए उठे मदद के हाथ

बाराबंकी में भारतीय किसान यूनियन ने केरल के बाद पीड़ितों के लिए अपनी मदद का हाथ आगे बढ़ाया। इस काम में उन लोगों ने किसी धन्ना सेठ से मदद नहीं ली बल्कि थोड़ा-थोड़ा अनाज इकट्ठा करने के बाद उसे बेचकर जो राशि मिली उसे केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए जिलाधिकारी के माध्यम से भेजने का काम किया। यह राशि कोई छोटी-मोटी रकम नहीं है, बल्कि एक लाख तिरानबे हजार रुपए की बड़ी रकम हुई। किसानों के इस योगदान की जिलाधिकारी ने भी सराहना की है।

 

ऐसे कामों के लिए हम लोग रहते हैं हमेशा आगे

भारतीय किसान यूनियन के प्रान्तीय महासचिव मुकेश सिंह ने कहा कि बाराबंकी के किसान जनहित के कामों में हमेशा आगे रहते हैं। हर महीने वह रक्तदान कर लोगों को जीवन प्रदान करता है। हर साल सैकड़ों गरीब कन्याओं की सामूहिक शादी करवाता है। डॉक्टरों को परीक्षण के लिए देहदान भी कर रहा है और जिनकी आंखें नहीं है उन्हें नेत्रदान भी कर रहा है। इसी कड़ी में जब यहां के किसानों को पता चला कि देश के एक राज्य केरल में बाढ़ के कारण भयंकर आपदा आई है, तो इन्होंने अपने-अपने घरों से थोड़ा-थोड़ा अनाज निकाल कर इकट्ठा किया और जिलाधिकारी कार्यालय लेकर आए। मगर अनाज जाना मुश्किल था इसलिए उसकी बिक्री कर उससे जो राशि हासिल हुई उसका एक लाख तिरानबे हजार का चेक जिलाधिकारी महोदय को सौंपा दिया, ताकि यह राशि केरलवासियों की सहायता में काम आ सके।

 

किसानों का सराहनीय कदम

वहीं बाराबंकी के जिलाधिकारी उदय भानु त्रिपाठी ने बताया कि किसान यूनियन के प्रान्तीय महासचिव मुकेश सिंह द्वारा किसानों से इकट्ठा किया गया एक लाख तिरानबे हजार रुपए का चेक प्राप्त हुआ है। जिसे मुख्यमंत्री राहतकोष के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा जाएगा। जो वहां से केरल की सरकार को सहायता के रूप में भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि किसान यूनियन के मुकेश सिंह का यह एक सराहनीय काम है जो अब किसानों की सहायता से देश की आपदा प्रबंधन के लिए उपयोग किया जा रहा है। किसानों के इस कार्य की जितनी सराहना की जाए वह कम है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned