छुट्टा जानवरों पर किसानों के सब्र का टूटा बांध, रास्ते पर लगाया जाम

छुट्टा जानवरों पर किसानों के सब्र का टूटा बांध, रास्ते पर लगाया जाम

Nitin Srivastva | Publish: Sep, 11 2018 11:52:59 AM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

भारतीय किसान यूनियन (भानु गुट) ने शहर के मुख्य मार्ग पर पदयात्रा निकाली और मार्ग को जाम कर दिया...

बाराबंकी. जब से प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार आई और उन्होंने अवैध बूचड़खानों पर रोक की बात कही तबसे क्या गांव, क्या शहर हर जगह छुट्टा जानवरों की बाढ़ सी आ गई है। यह छुट्टा जानवर किसानों की फसलों का सत्यानश कर रहे हैं। किसानों की इसी दुर्दशा पर भारतीय किसान यूनियन (भानु गुट) ने बड़ी संख्या में किसानों के साथ शहर के मुख्य मार्ग पर पदयात्रा निकाली और मार्ग को जाम कर दिया।

 

सड़क पर लगा दीया जाम

प्रदर्शन में किसानों ने सड़क पर बैठकर जहां जाम लगा दिया। जिसके बाद सभी जिलाधिकारी को मौके पर आकर ज्ञापन लेने की बात पर अड़ गए। इस दौरान किसानों ने सरकार विरोधी नारे भी लगाए। प्रदर्शन में शामिल किसानों ने नारा लगाया कि योगी जी प्रबंध करो, छुट्टा जानवर बंद करो।

 

छुट्टा जानवरों से परेशान

इस दौरान किसान नेता आशू चौधरी ने बताया कि वह राजकीय इंटर कालेज से पदयात्रा कर रहे हैं, मगर वहां से यहां तक कोई भी जिले का अधिकारी अब तक पूछने नहीं आया कि यह प्रदर्शन क्यों कर रहे हो। आज एक बीघा, दो बीघा की जमीन वाला किसान हो या दस, बीस बीघा जमीन वाला किसान। सब इन छुट्टा जानवरों से परेशान हैं। वह बड़ी मेहनत से फसल उगाते हैं और उसे यह छुट्टा जानवर नष्ट कर जाते हैं। ऐसे में किसान करे तो क्या करे। इन छुट्टा जानवरों ने किसानों का जीना दूभर कर दिया है। अगर जिले के अफसर यहां आकर हमसे ज्ञापन नही लेंगे तो हम जिले के अधिकारियों के कार्यालय पर छुट्टा जानवर बांध देंगे।

 

की जाएगी कार्रवाई

जिसके बाद किसानों की समस्या सुनने आए अपर जिला मजिस्ट्रेट (अतिरिक्त) सुरेन्द्र बहादुर यादव ने कहा कि किसानों ने अपनी समस्याओं का जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल और प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन उन्हें सौंपा है। जिसमे वैसे तो इनकी 9 मांगे हैं, मगर जो मुख्य मांग है उसके मुताबिक सरकार छुट्टा जानवरों से इनकी फसलों को बचाने में सहायता करे। इनका मांग पत्र वह प्रधानमंत्री और राज्यपाल को पहुंचाएंगे। वहां से जो भी निर्णय होगा उसी के अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Ad Block is Banned