बड़ी खबर: निकाय चुनाव के परिणाम आने से पहले ही सपा को झटका, इस सीट पर भाजपा का हुआ कब्जा

बड़ी खबर:  निकाय चुनाव के परिणाम आने से पहले ही सपा को झटका, इस सीट पर भाजपा का हुआ कब्जा
Devanand Pandey

Shatrudhan Gupta | Publish: Nov, 06 2017 09:07:38 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

नगर निकाय चुनाव का परिणाम आने से पहले ही समाजवादी पार्टी को भाजपा ने बड़ा झटका लगा है।

बाराबंकी. नगर निकाय चुनाव का परिणाम आने से पहले ही समाजवादी पार्टी को भाजपा ने बड़ा झटका लगा है। दरअसल, समाजवादी पार्टी (पार्टी) समर्थित ब्लॉक प्रमुख दरियाबाद के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव सोमवार को पारित हो गया। अब ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी पर भारतीय जनता पार्टी के देवानंद पांडेय बैठेंगे। वे नए ब्लॉक प्रमुख होंगे। ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी गंवाने के बाद सपा में हड़कंप मचा हुआ है।

जोड़-तोड़ की चल रही राजनीति

दरियाबाद ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ 45 और पक्ष में 39 बीडीसी सदस्यों ने वोटिंग की। वोटों की गिनती के बाद सपा समर्थित ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह चमन के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव परित हो गया। भारतीय जनता पार्टी के सत्ता में आने के बाद जोड़-तोड़ का खेल जो शुरू हुआ था, वह आज भी जारी है। अन्य राजनीतिक दलों की तरह भारतीय जनता पार्टी की भी प्रदेश में सरकार बनने के बाद अपने लोगों को ब्लॉक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्षों की कुर्सी पर बैठाने के लिए जोड़तोड़ की राजनीति शुरू कर दी है। इस कारण पिछले कुछ महीनों में कई जिला पंचायत अध्यक्ष पद से समाजवादी पार्टी के नेताओं को अपना त्यागपत्र देना पड़ा।

45 बीडीसी सदस्य विरोध में आए

बाराबंकी में दरियाबाद आज ऐसा दूसरा ब्लॉक बना, जहां भारतीय जनता पार्टी के समर्थक देवनंद पांडेय ने सपा समर्थित और पूर्व राज्य मंत्री राजा राजीव सिंह के खास सिपहसालार ब्लॉक प्रमुख दरियाबाद अजीत सिंह उर्फ चमन के खिलाफ जिलाधिकारी के सामने अविश्वास प्रस्ताव पेश किया। देवानंद पांडेय द्वारा पेश किए गए अविश्वास प्रस्ताव में 45 बीडीसी सदस्यों ने देवानंद पांडेय के पक्ष में तो 39 बीडीसी सदस्यों ने अजीत सिंह के पक्ष में अपना समर्थन दिया है। इसके बाद देवानंद पांडेय के अविश्वास प्रस्ताव जीतने पर दरियाबाद ब्लॉक के ब्लॉक प्रमुख पद से अजीत सिंह को हाथ धोना पड़ा। वहीं, अब नए ब्लॉक प्रमुख के रूप में देवानंद पांडेय की जल्द ताजपोशी होगी।

सपा सरकार की वजह से मिली थी हार

बताते चलें कि ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में समाजवादी पार्टी की सत्ता होने पर अजीत सिंह ने दरियाबाद ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जीता था। बताया जाता है कि चुनाव में धनबल-बाहुबलऔर सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग हुआ था। पूर्व राज्य मंत्री राजा राजीव सिंह के खास माने जाने वाले अजीत सिंह को पूरी तरह से राजा राजीव सिंह का संरक्षण प्राप्त था और शायद यही वजह रही की जिला प्रशासन और स्थानीय प्रशासन ने देवानंद पांडेय को प्रताडि़त किया और फिर आखिर देवनंद पांडेय को हार का सामना करना पड़ा।

कार्यकर्ताओं को उनका न्याय दिलाएंगे

देवानंद पांडे के भाई और भाजपा नेता पूर्व ब्लॉक प्रमुख दरियाबाद विवेकानंद पांडेय का कहना है कि इस निर्णय से आज हमारी जीत हुई है। भारतीय जनता पार्टी को उस समय समाजवादी पार्टी की सरकार की वजह से हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन आज हमने सारा हिसाब चुकता कर लिया है। अब हम भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को उनका न्याय दिलाएंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned