मैं भी चौकीदार और चौकीदार चोर है की जंग पर फूट पड़ा असल चौकीदार का गम, देखें वीडियो

बाराबंकी की फतेहपुर कोतवाली में तैनात करीब 70 चौकीदार भी इससे आहत हैं...

By: नितिन श्रीवास्तव

Published: 29 Mar 2019, 08:48 AM IST

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

बाराबंकी. लोकसभा चुनाव में राजनीतिक प्रोपोगेंडा बने चौकीदार इस समय सभी के दिमाग पर छाए हुए हैं। किसी ने अपने नाम के आगे चौकीदार लिखवा लिया तो किसी ने लिखा हां मैं भी चौकीदार, तो कोई इसी का विरोध करते हुए चौकीदार चोर है का नारा बुलंद करके चुनावी तैयारियों में लगा हुआ है। लेकिन जिन चौकीदारों के नाम पर देशभर में राजनीति की जा रही है उन्हीं की माली हालत बेहत खराब है। सरकारें किसी की भी रही हों और स्थितियां चाहे जो भी रही हों गांवों में तैनात इन चौकीदारों पर न किसी का ध्यान गया और न ही किसी ने इनके बारे में आज तक सोचा। प्रशासनिक कामों में अहम भूमिका निभाने वाले इन चौकीदारों की हालत यह है कि वे अपनी बुनियादी सुविधाएं भी नहीं जुटा पा रहे हैं और जो राजनीतिक पार्टियां उनका नाम लेकर राजनीति करने में जुटी हैं उन्होंने भी उनकी ओर ध्यान नहीं दिया। बाराबंकी की फतेहपुर कोतवाली में तैनात करीब 70 चौकीदार भी इससे आहत हैं कि उनके नाम का राजनीति में उपयोग तो किया जा रहा है लेकिन उनकी ओर ध्यान किसी का नहीं जा रहा। सुनें खुद उनकी जुबानी...

 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned