सीएम की पहल के बाद बाराबंकी पुलिस लाइंस में शुरू हुआ कोविड हॉस्पिटल, फ्रंट लाइन में काम करने वाले पुलिस कमिर्यों का होगा इलाज

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फ्रंट लाइन में काम करने वालों पुलिस कमिर्यों के लिए शानदार पहल की है।

बाराबंकी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फ्रंट लाइन में काम करने वालों पुलिस कमिर्यों के लिए शानदार पहल की है। कोरोना संक्रमित पुलिस कर्मियों को अब भर्ती होने के लिए अस्पतालों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। योगी सरकार ने प्रदेश भर के पुलिस लाइन में कोविड सहायता केंद्रों और आइसोलेशन वार्ड की सुविधा देने का निर्देश दिया है, ताकि अगर कोई पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमण की चपेट में आए, तो उसे पुलिस लाइन में ही कोविड आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया जा सके। इसी को देखते हुए कोरोना संक्रमित, कोरोना के लक्षण वाले पुलिस कर्मियों या उनके परिवारजन को प्रारंभिक स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए बाराबंकी पुलिस लाइंस में कोविड अस्पताल जैसी सेवाएं शुरू हो गई हैं।

बाराबंकी पुलिस लाइन में शुरू हुआ कोविड अस्पताल

आमजन की सुरक्षा के लिए काम करने वाले पुलिसकर्मियों की सेहत के लिए मुख्यमंत्री की पहल के बाद बाराबंकी पुलिस लाइन में कोविड अस्पताल शुरू हो गया है। कोरोना संक्रमित या कोरोना के लक्षण वाले पुलिस कर्मियों और उनके परिवारजन को प्रारंभिक स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए पुलिस लाइंस में अस्पताल में कोविड अस्पताल जैसी सेवाएं शुरू हो गई हैं। कोविड अस्पताल के रूप में संचालित किए गए इस अस्पताल में कई पुलिसकर्मियों का इलाज भी किया जा रहा है। खुद एसपी यहां बने कोरोना नियंत्रण केंद्र का नेतृत्व करेंगे। यही नहीं, आईजी और डीआईजी भी प्रभावित पुलिस कर्मियों और उनके परिवारों से नियमित रूप से बात करेंगे।

केवल पुलिसकर्मी और उनके परिवार के लोग ही होंगे आइसोलेट

मुख्यमंत्री के निर्देश पर पुलिस महकमे की ओर से बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में केवल पुलिसकर्मी ही आइसोलेट किए जाएंगे। आइसोलेशन वार्ड में एक डॉक्टर की तैनाती और एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है, ताकि पुलिस कर्मियों को टेली मेडिसिन सेवा भी मिल सके। इन वार्डों में पुलिस कर्मियों के समुचित इलाज के लिए पीपीई किट, कोविड जांच किट और ऑक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता आदि की व्यवस्था कराई गई है। इन कोविड एल 1 अस्पताल में संक्रमित पुलिस कर्मियों की देखभाल और नियमित जांच के लिए 24 घंटे डॉक्टर की टीम मौजूद रहेगी। आइसोलेशन वार्ड में रखे गए पुलिसकर्मियों की ऑक्सीजन लेवल और तबीयत पर लगातार निगाह रखने के लिए मेडिकल उपकरण मौजूद हैं।

पुलिसकर्मियों का चल रहा इलाज

बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने बताया कि कोरोना संक्रमण से पुलिस परिवार की सुरक्षा को देखते हुए सरकार के निर्देश पर ऐसा किया गया है। अस्पताल में बेड के साथ ही दवाएं और आक्सीजन की व्यवस्था कराई गई है। ताकि संक्रमित या कोरोना जैसे लक्षण वाले पुलिस परिवार के सदस्यों को समय से इलाज दिलवाकर उनकी जान को बचाया जा सके। उन्होंने बताया कि उनको हौसला देने के लिए पूरा पुलिस विभाग एक साथ खड़ा है।

यह भी पढ़ें: CBSE Board 10th result 2021: CBSE दसवीं का रिजल्ट 20 जून को, जानिये कैसे मिलेंगे अंक

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned