जिला चिकित्सालय में बनाया गया कोविड अस्पताल हुआ शुरू, मरीजों को एल-2 और एल-3 जैसी सुविधाएं

Covid Hospital in Barabanki: सिरौलीगौसपुर संयुक्त चिकित्सालय में भी बन रहा 100 बेड का कोविड अस्पताल।

बाराबंकी. Covid Hospital in Barabanki जनपद बाराबंकी में सांसद डा उपेन्द्र सिंह रावत ने जिला चिकित्सालय के ट्रॉमा सेंटर में बनाये गये कोविड अस्पताल का उद्घाटन कर दिया है। यहां कोरोना मरीजों को भर्ती करने की प्रक्रिया जारी है। पहले चरण में यहां 30 बेड की शुरूआत की गई है और यहां भर्ती होने वाले मरीजों को एल-2 और एल-3 जैसी सुविधाएं मिलेगी। इसके लिए डॉक्टरों की टीम और कर्मचारियों को भी लगा दिया गया है। जल्द ही इस अस्पताल को 100 बेड तक विस्तार दिया जाएगा। इसके अलावा रामसनेहीघाट, रामनगर, हैदरगढ़, फतेहपुर और सिरौलीगौसपुर सीएचसी पर भी कोरोना मरीजों को प्राथमिक उपचार की सुविधा मिल सकेगी ऐसी व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही सिरौली गोसपुर में सांसद उपेन्द्र नाथ रावत के प्रयास पर 100 बेड का कोविड अस्पताल बनने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई।

 

जिला अस्पताल में कोविड हॉस्पिटल शुरू

दरअसल कोरोना मरीजों के लिए संबद्ध निजी अस्पतालों की मनमानी और मरीजों से की जा रही अवैध वसूली की मिल रही शिकायतों को जिला प्रशासन ने काफी गंभीरता से लिया। ऐसे अस्पतालों के खिलाफ जहां जांच शुरू की गई है। वहीं सरकारी अस्पतालों को कोविड अस्पताल बनाए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। इसी के तहत पहले चरण में जिला अस्पताल को कोविड अस्पताल के रुप में शुरू किया गया है। इसके अलावा रामसनेहीघाट, हैदरगढ़, फतेहपुर, रामनगर और सिरौलीगौसपुर सीएचसी पर 2-2 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लगा दिए गए हैं जिससे यहां पर आने वाले कोविड मरीजों को प्राथमिक उपचार की सुविधा मिल सके। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखा जा रहा है कि यहां पर आने वाले अन्य मरीजों को किसी प्रकार की असुविधा न हो।

 

मरीजों को एल-2 और एल-3 जैसी सुविधाएं

जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. एसके सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर को कोविड अस्पताल के रूप में शुरू किया गया है। पहले चरण में 30 बेड से इसकी शुरूआत की गई है। यहां पर भर्ती होने वाले मरीजों को एल-2 और एल-3 जैसी सुविधाएं दी जाएंगी। जल्द ही इसे आगे भी विस्तार किया जाएगा।

 

जवाबदेही की गई तय

जिलाधिकारी और अस्पताल प्रशासन द्वारा यहां के लिए चिकित्सकों और कर्मचारियों की ड्यूटी लगाते हुए उनकी जवाबदेही तय की दी गई है। साथ ही यह निर्देश दिया गया है कि अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों के उपचार में किसी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। क्योंकि अस्पताल में भर्ती होने वाले कोरोना मरीजों के लिए इस समय डॉक्टर ही सबकुछ हैं। ऐसी स्थिति में मरीजों से सामान्य व्यवहार किया जाए और उन्हें किसी प्रकार की असुविधा न हो इस बात का भी ध्यान रखा जाए।

 

सिरौलीगौसपुर में भी बना 100 बेड का कोविड अस्पताल

कोविड-19 महामारी की भयावह स्थिति को देखते हुए जिले के सांसद उपेंद्र सिंह रावत ने पत्र लिखकर 100 बेड के अस्पताल एल 1 की मांग की थी। केयर इंडिया उत्तर प्रदेश के चीफ ऑफ प्रोग्राम (हेल्थ एंड न्यूट्रीशन) डॉ. सुनील बाबू ने सांसद के पत्र का संज्ञान लेते हुए 100 बेड का कोविड हॉस्पिटल सिरौलीगौसपुर में खोलने की अपनी सहमति प्रदान कर दी। इस सम्बन्ध में केयर इण्डिया की परियोजना अधिकारी वंदना ने अपनी तीन सदस्यीय टीम के साथ जिले का भ्रमण किया और जिले के उच्च अधिकारियों के साथ बैठक कर संयुक्त चिकित्सालय सिरौलीगौसपुर में 100 बेड का कोविड हॉस्पिटल बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई। जल्द ही कोविड हॉस्पिटल सिरौलीगौसपुर में चालू हो जायेगा। इससे जिले के सुदूरवर्ती क्षेत्र के लोगों को काफी सुविधा मिलेगी।यहां पर कोरोना के प्रारंभिक लक्षण वाले मरीजों को उपचार किया जायेगा। साथ ही जिला महिला अस्पताल में भी कोविड संक्रमित गर्भवती महिलाओं के उपचार और प्रसव की सुविधा की गई है वहीं नान कोविड महिलाओं को उपचार की सुविधा मिलती रहेगी।

coronavirus
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned