चित्रकूट जेल में गैंगवार के बाद अफसरों ने खंगाली बाराबंकी जेल, औचक छापेमारी कर कराई बंदियों की परेड

यूपी के चित्रकूट जिला जेल की घटना के बाद बाराबंकी पुलिस-प्रशासन ने जिला जेल में छापेमारी की।

बाराबंकी. यूपी के चित्रकूट जिला जेल की घटना के बाद बाराबंकी पुलिस-प्रशासन ने जिला जेल में छापेमारी की। हालांकि छापेमारी में पुलिस और प्रशासन को कोई आपत्ति जनक वस्तु हाथ नहीं लगी है, लेकिन जेल में अचानक छापेमारी से हड़कंप मच गया। पुलिस-प्रशासन की नजर जिला कारागार में बंद उन खास बंदियों पर भी है, जो कई हाईप्रोफाइल मामलों से जुड़े हैं। तकरीबन आधे घंटे के निरीक्षण के दौरान टीम ने जेल की सभी बैरकों, कैंटीन और अस्पताल का बारीकी से निरीक्षण किया और व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त रखने के निर्देश दिए। आनन-फानन में बंदियों की परेड भी कराई गई। इस दौरान बंदियों की तलाशी भी हुई।

अफसरों ने खंगाली बाराबंकी जेल

चित्रकूट जेल में गोलीबारी की वारदात के बाद बाराबंकी जिले डीएम और एसपी अचानक हरकत में आए और उन्होंने भारी पुलिस बल के साथ जेल की चेकिंग की। हालांकि यहां कोई संदिग्ध वस्तु बरामद न होने की बात अफसरों ने बताई है। वहीं किसी भी स्थिति से निपटने के लिए जेल की सुरक्षा भी चाक चौबंद करने की तैयारी की जा रही है। दरअसल चित्रकूट जेल में हुए गैंगवार में तीन बंदियों की हत्या के बाद प्रदेश की सभी जेलों की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठने लगे। ऐसे में अब जिला कारागार में भी व्यवस्था चाक चौबंद की जा रही है। इसके लिए डीएम डा. आदर्श सिंह, एसपी यमुना प्रसाद दूसरे अधिकारियों ने पुलिस बल के साथ जेल का आकस्मिक निरीक्षण किया। सभी अधिकारियों द्वारा कारागार की उच्च सुरक्षा बैरक, क्वारन्टाइन बैरक, कारागार चिकित्सालय, महिला बैरक और दूसरी बैरकों का भी निरीक्षण किया गया। पुलिस बल के ने बन्दियों और बैरकों की विधिवत तलाशी भी की गई। हालांकि जेल की तलाशी के दौरान बैरकों में और बन्दियों के पास कोई निषिद्ध वस्तु बरामद नहीं हुई। साथ ही बन्दियों द्वारा किसी प्रकार की कोई समस्या भी नहीं बतायी गयी।

नहीं मिला किसी तरह का आपत्तिजनक सामान

डीएम और एसपी ने बताया कि जेल में निरीक्षण के दौरान किसी प्रकार का आपत्तिजनक सामान नहीं मिला है। जेल में लगे सीसीटीवी कैमरों से अंदर की प्रत्येक गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 से बचाव के लिए कारागार प्रशासन द्वारा किये गये प्रयासों और उपायों का भी निरीक्षण किया गया। उन्होंने बताया कि सभी बन्दियों द्वारा मास्क लगाया जा रहा है। साथ ही कारागार में साफ-साफाई की भी उचित व्यवस्था है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned