डीएम ने हरी झंडी दिखाकर की संचारी रोग नियंत्रण अभियान की शुरूआत

स्थानीय जनपद संचारी रोग नियंत्रण अभियान में सोमवार की छात्र एवं छात्राओं व चिकित्सा विभाग से जुडे कार्मिकों द्वारा जनजगरूकता रैली निकाली गई।

बाराबंकी. स्थानीय जनपद संचारी रोग नियंत्रण अभियान में सोमवार की छात्र एवं छात्राओं व चिकित्सा विभाग से जुडे कार्मिकों द्वारा जनजगरूकता रैली निकाली गई। रैली को जिलाधिकारी डा आदर्श सिंह ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। यह रैली केडी सिंह बाबू स्टेडियम से शुरू होकर शहर के विभिन्न मार्गो से होती हुई जिला अस्पताल तक गई । इस कार्यक्रम के तहत आशा कार्यकर्ताओं ने सर्वप्रथम दस्तक व संचारी रोग अभियान के तहत अपने- अपने क्षेत्र का भ्रमण कर लोगों में जागरूकता अभियान शुरू किया । विशेष संचारी अभियान रोग नियंत्रण अभियान 1 मार्च से 31मार्च तक आयोजित किया जायेगा।

कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि लोगों को संचारी रोगों के प्रति जागरूक होने की आवश्यकता है। कई बार जानकारी के अभाव में सामान्य बीमारी भी घातक रूप धारण कर लेती है। अगर सतर्कता बरती जाए तो बीमारी को फैलने को रोका जा सकता है। उन्होंने लोगों को अपने आसपास साफ सफाई रखने की अपील की। जिलाधिकारी ने कार्यक्रम के समापन के पश्चात जिला महिला चिकित्सालय का निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश सम्बन्धित चिकित्सकों/स्टाफ को दिये। संचारी रोग हेतु जिला सूचना कार्यालय की ओर से एलईडी वैन के माध्यम से बड़े रूप में प्रचार-प्रसार किया जा रहा है।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी व नोडल डा डीके श्रीवास्तव ने बताया कि जनपद में विशेष संचारी अभियान रोग नियंत्रण अभियान 1 मार्च से 31 मार्च तक तथा दस्तक अभियान 10 मार्च से 24 मार्च तक जनपद में जारी रहेगा । जनपद की सभी आशा कार्यकर्ता 10 से 24 मार्च तक गृह भ्रमण कर लोगों को संचारी रोग एवं दस्तक अभियान के बारे में लोगों को जागरूक करेंगी। इस अभियान के तहत संचारी रोग एवं वेक्टर जनित रोग पर नियंत्रण के लिए जन जागरूकता के माध्यम से उनमें व्यवहार परिवर्तन का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि संचारी रोगों पर नियंत्रण के लिए सरकारी विभाग के साथ अन्य अंतर्विभागीय प्रयास की सक्रियता रहेगी।

इस दौरान सीएमओ डा बीकेएस चौहान ने बताया कि संचारी रोगों से बचाव एवं रोकथाम हेतु यह अत्यन्त आवश्यक है कि जनसहभागिता के माध्यम से जनपद में साफ-सफाई, मच्छरों की निरोधात्मक कार्रवाई, जल जमाव को रोकने की रणनीति तैयार की जाए एवं समाज की सहभागिता से संचारी रोगों के फैलाव को रोका जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में आशा, एएनएम द्वारा मातृ समूहों की बैठक, पानी को क्लोरीन टैबलेट के माध्यम से साफ करने का प्रदर्शन, हाथ धोने का प्रदर्शन, खुले में शौंच से मुक्ति, गंदगी व कूड़े के ढेर की सफाई तथा कूड़े का उचित निस्तारण के सम्बन्ध में व्यापक जन जागरूकता के कार्यक्रम किये जाएं। उन्होने बताया कि इस अभियान के तहत पानी लगे हुए स्थानों पर मलेरिया विभाग के कर्मचारियों के द्वारा लगातार एंटी लार्वा का छिड़काव भी प्रतिदिन माइक्रो प्लान के अनुसार शहरी और ग्रामीण इलाकों में किया जायेगा।

इस मौके पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, समस्त अपर/उप मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला पंचायतराज अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, प्राचार्य जीआईसी, प्रतिनिधि यूनिसेफ, मलेरिया एवं फाईलेरिया विभाग के तथा जिला एवं महिला चिकित्सालय तथा जिला सूचना कार्यालय के समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी आदि मौजूद रहे।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned