हाथों में तिरंगा थाम ईद ए मिलादुन्नबी के जुलूस में दिया एक भारत, श्रेष्ठ भारत का संदेश

Nitin Srivastva

Updated: 11 Nov 2019, 09:54:18 AM (IST)

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

बाराबंकी . बाराबंकी जो पौराणिक मंदिर महादेवा और जो रब है वही राम का संदेश देने वाले प्रसिद्ध सूफी संत हाजी वारिस अली शाह की पवित्र दरगाह देवा शरीफ की धरती के रूप में विख्यात है। वहां हिन्दू-मुस्लिम एकता की अनोखी मिशाल कायम होते दिखाई दी। ईद ए मिलादुन्नबी के जुलूस में हिन्दू और मुसलमानों ने एक साथ शामिल होकर कौमी एकता का उदाहरण प्रस्तुत किया। इस जुलूस में तिरंगा लेकर साथ चल रहे मुसलमानों ने एक भारत श्रेष्ठ भारत की आवाज को भी बुलंद किया। इस जुलूस ने एक बात तो साबित कर ही दी कि नफरत फैलाने वाले कितनी भी नफरत फैला दें, मगर उस नफरत को यहां के लोग प्यार से जीत लेंगे। एक दिन पहले ही अयोध्या मामले में आये सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का स्वागत हिन्दुओं ने भी किया और मुसलमानों ने भी किया और एक दूसरे से गले मिलकर बधाई भी दी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned