हिन्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में इनकम टैक्स का छापा, बरामद किये एक करोड़ रुपये

जिले के हिन्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज़ के ऑफिस में इनकम टैक्स की टीम ने छापा मारा।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 22 Aug 2017, 11:07 AM IST

बाराबंकी। जिले के हिन्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज़ के ऑफिस में इनकम टैक्स की टीम ने छापा मारा। छापे के दौरान 01 करोड़ रुपया बरामद किये गये। इस मामले में चेयरपर्सन ऋचा मिश्रा सहित 6 के खिलाफ धोखाधड़ी की एफआईआर दर्ज की गई है। केंद्र और प्रदेश की सरकारें मैनेजमेंट और मेडिकल इंस्टिट्यूट पर सरकार द्वारा तय की गई फीस से ज्यादा फीस लेने को लेकर सख्ती करने के आदेश दिए हैं लेकिन कुछ एक ऐसे भी इंस्टीट्यूट हैं जो सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं।

ऐसा ही एक विवादित नाम है बाराबंकी के सफेदाबाद कस्बे में स्थित हिन्द इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल इंस्टिट्यूट का। यह इंस्टिट्यूट अपने कोर्स और अध्यापन क्षमता के लिए नहीं बल्कि अपने विवादों को लेकर चर्चित रहता है। हिन्द इंस्टिट्यूट पर ताज़ा आरोप लगा है कि एडमीशन लेने आये छात्रों से बगैर रसीद लाखों रुपये की अवैध धनउगाही का आरोप लगा है और यह आरोप लगाया है उन्हीं छात्रों के अभिभावकों ने जो इन छात्रों को अपने साथ हिन्द इंस्टिट्यूट में इस उम्मीद के साथ एडमीशन कराने लाये थे।

खुद बिहार और राजस्थान जैसे दूसरे राज्यों से आये छात्रों और अभिभावकों ने मैनेजमेंट पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि हमे पहले नहीं बताया गया लेकिन अब हमसे बिना रसीद दिए लाखों की मांग की जा रही है। मामले की जांच के लिए पहुंचे एसडीएम बाराबंकी सुशील सिंह ने इस पूरे धोखाधड़ी की जांच के लिए लखनऊ से इनकम टैक्स की टीम हिन्द इंस्टिट्यूट पहुंची। इनकम टैक्स की टीम को आफिस से 1 करोड़ रु नकद मिला जिसे एडमीशन के लिए मेडिकल छात्रों ने जमा किया था। पुलिस ने छात्रों के परिजनों की तहरीर के आधार पर इंस्टिट्यूट की चेयरपर्सन ऋचा मिश्रा, प्रिंसिपल जेवी सिंह, एडमिशन कोआर्डिनेटर वंदना सहित 3 अन्य के खिलाफ नगर कोतवाली में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। फिलहाल इंस्टीट्यूट का मैनेजमेंट मौके से फरार हो गया है।

Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned