पाकिस्तान से 1965 के युद्ध में शहीद हुए थे दादा, अब पुलिस की लापरवही के चलते पोते ने भी गंवाई जान, परिजनों में कोहराम

पाकिस्तान से 1965 के युद्ध में शहीद हुए थे दादा, अब पुलिस की लापरवही के चलते पोते ने भी गंवाई जान, परिजनों में कोहराम

Nitin Srivastva | Publish: Sep, 10 2018 01:10:08 PM (IST) | Updated: Sep, 10 2018 02:26:17 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

फिरौती की कॉल रिकॉर्डिंग और लोकेशन ट्रेस होने के बावजूद पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही...

बाराबंकी. उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में फिरौती के लिए अपहृत एक युवक को आखिरकार बदमाशों ने मौत के घाट उतार दिया। मृतक का एक गन्ने के खेत से बरामद हुआ है। मृतक युवक का दादा पाक सेना से युद्ध के दौरान 1965 में शहीद हुआ था और यह इनका इकलौता पोता भी था। वहीं परिजनों का आरोप है कि अपहरण के इस मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही भी सामने आई है, क्योंकि फिरौती की कॉल रिकॉर्डिंग और लोकेशन ट्रेस होने के बावजूद पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही।

 

अपहृत युवक का मिला शव

मामला बाराबंकी जिले में रामसनेहीघाट थाना क्षेत्र के मुरारपुर गांव का है। जहां पुलिस ने पांच सितंबर को अपहरण किये गए युवक सीताराम का शव फैजाबाद जिले के रुदौली थाना क्षेत्र में गन्ने के खेत से बरामद किया। वहीं इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी को भी गिरफ्तार किया जिसकी निशानदेही पर शव बरामद हुआ। आपको बता दें कि अपहरण के इस मामले में बाराबंकी पुलिस की बड़ी लापरवाही भी सामने आई है। क्योंकि अपहरण के बाद बदमाशों ने फिरौती के लिए परिजनों को जो फोन कॉल की थी, उसकी रिकॉर्डिंग भी पुलिस के पास मौजूद थी। जानकारी के मुताबिक सर्विलांस के जरिए बदमाशों की लोकेशन ट्रेस करने के बावजूद पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही जिसके चलते अपहृत युवक को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा।

 

 

 

पीड़ित परिवार में मचा कोहराम

सीताराम का शव मिलने के बाद पीड़ित परिवार में कोहराम मच गया। मृतक युवक का दादा पाक सेना से युद्ध के दौरान 1965 में शहीद हुआ था और यह इनका इकलौता पोता भी था। परिजनों ने बताया कि पांच सितंबर से सीताराम घर से गायब है। जिसके बाद हम लोगों ने पुलिस के पास गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। तभी दूसरे दिन 10 लाख रूपये फिरौती की मांग फोन पर आने के बाद अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया गया।

 

होगी सख्त कार्रवाई

वहीं इस मामले में बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक वीपी श्रीवास्तव ने बताया कि थाने में मृतक युवक की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाई गई थी। जिसके बाद फिरौती का एक ऑडियो भी वायरल हुआ था। मामला मेरे संज्ञान में आने के बाद मुकदमा भी कायम कराया गया था। जिसके बाद जानकारी हुई कि राजितराम नाम के एक शख्स ने उसे फोन करके बुलाया था। एसपी ने बताया कि इस मामले में एक आरोपी गिरफ्तार भी हुआ था जिसने पूछताछ में बताया कि उसने अपहृत युवक की हत्या कर दी। उसी आरोपी की निशानदेही पर म़तक का शव भी बरामद किया गया है। इस मामले में आगे की जांच करके सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Ad Block is Banned