किसान सम्मान निधि में भ्रष्टाचार की बात लगी मुहर, दर्ज होने लगे  मुकदमे

बाराबंकी में किसानों के साथ किसान सम्मान निधि में भ्रष्टाचार की खबर जब से मीडिया की सुर्खियां बनी तबसे प्रशासन में हड़कम्प मच गया था।

बाराबंकी. किसान सम्मान निधि के भ्रष्टाचार की खबर सुर्ख़ियों में आने के बाद चाहे अनचाहे ही सही मगर अब प्रशासन ने भी अपनी मुहर लगानी शुरू कर दी है। इसी क्रम में दो ऐसे लोगों पर मुकदमा दर्ज किया जो जनसेवा केंद्र चलाते हैं और बेरोजगारी भत्ते के नाम पर किसान सम्मान निधि में लोगों का पंजीकरण कर रहे थे। उपजिलाधिकारी की जांच में यह दोनों केन्द्र संचालक दोषी पाए गए हैं और इन पर मुकदमा दर्ज करा दिया गया है।

शुरू हुई गिरफ्तारी

बाराबंकी में किसानों के साथ किसान सम्मान निधि में भ्रष्टाचार की खबर जब से मीडिया की सुर्खियां बनी तबसे प्रशासन में हड़कम्प मच गया था। क्योंकि यह भ्रष्टाचार कम नहीं बल्कि करीब 300 करोड़ के लगभग था और लगभग ढाई लाख अपात्र लोगों को किसान सम्मान निधि का सीधा फायदा पहुंचाया गया था। अब यह अपात्र नाम सही थे या काल्पनिक यह तो जांच के बाद ही पता लग पायेगा मगर यह नाम अगर काल्पनिक थे तो यह पैसा किसकी जेब में गया। अगर इसकी विस्तृत जांच की जाए तो कई बड़े नाम भी सामने आ सकते हैं। जिलाधिकारी के आदेश पर उपजिलाधिकारी फतेहपुर ने जब जांच की तो दो जनसेवा केन्द्र संचालक जो बेरोजगारी भत्ते के नाम पर किसान सम्मान निधि में पंजीकरण करने वाले अमित कुमार वर्मा, लक्ष्मी नारायण शुक्ल को दोषी पाया और उनपर मुकदमा पंजीकृत कराया। कुछ भी हो यह मामला बड़ा है और अगर इसकी तह तक जांच हुयी तो कई बड़े नाम सामने आ सकते हैं।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned