Mentha Rate: मेंथा ऑयल के रेट में उछाल, जानें आज का भाव और आगे दाम में आएगी कितनी तेजी

Mentha Rate: एक्सएपर्ट मौजूदा भाव में जल्द लंबे उछाल का दावा कर रहे हैं। उनका कहना है कि विदेशों से मांग बढ़ते ही दाम काफी ऊपर चढ़ेंगे।

बाराबंकी. Mentha Rate: प्रदेश में मेंथा ऑयल में पिछले कुछ दिनों से लगातार मंदी देखने को मिल रही है। जनवरी महीने के मेंथा ऑयल के रेट (Mentha Oil Rate) में तेजी जारी नहीं रह पाई और इसमें लगातार गिरावट आ रही है। आज के कारोबार में मेंथा रेट टूटकर 963.50 रुपये प्रति किलो के भाव तक गिर गया है। हालांकि जनवरी की बात करें तो शुरूआत में मेंथा ऑयल की कीमत 1000 रुपये पार कर गई थी, लेकिन फिर इसमें गिरावट आ गई। हालांकि एक्सएपर्ट मौजूदा भाव में जल्द लंबे उछाल का दावा कर रहे हैं। उनका कहना है कि विदेशों से मांग बढ़ते ही मेंथा ऑयल रेट 1100 प्रति किलो के पार जाएगा। जो लंबे समय के लिए आकर्षक साबित होगा।

आपको बता दें कि मेंथा की सबसे ज्यादा पैदावार यूपी में होती है। देश में होने वाले कुल मेंथा ऑयल के उत्पादन में यूपी की हिस्सेदारी करीब 80 फीसदी है। जबकि यूपी के बाराबंकी में ही करीब 33% मेंथा आयल का उत्पादन होता है। सिर्फ बाराबंकी जिले में 40 से करोड़ रुपए के मेंथा आयल की बिक्री होती है। ऐसे में मेंथा ऑयल (Mentha Oil Rate Today) के रेट बढ़ने पर बाराबंकी के किसानों का सबसे ज्यादा फायदा होता है। क्योंकि आकड़ों की अगर मानें तो बाराबंकी जिले के 75 परसेंट क्षेत्रफल में मेंथा की खेती की जाती है।

मेंथा की फसल से किसान हो रहे मालामाल

बाराबंकी के किसानों की अगर मानें तो मेंथा की खेती किसानों की आर्थिक स्थिति सुधारने में सहायक साबित हो रही है। किसानों को आत्मनिर्भर बनने का मौका मिला है। हम बड़े पैमाने पर मेंथा की खेती करते अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। किसानों के मुताबिक इस खेती को करने में प्रति एकड़ औसतन लागत 15-20 हजार रुपए की लागत आती है। किसानों के मुताबिक एक एकड़ में करीब 50 से 60 किलोग्राम मेंथा आयल तैयार हो जाता है और फसल तैयार हो जाने पर व्यापारी खुद आकर अच्छे दाम देकर मेंथा आयल ले जाते हैं। ऐसे में ऊंचे रेट पर अगर हमारा मेंथा ऑयल बिक जाता है तो खेती का ये सौदा काफी फायदे का साबित होता है।

जिले में मेथा की खेती सबसे ज्यादा

आंकड़ों की अगर मानें तो बाराबंकी जिले के 75 परसेंट क्षेत्रफल में मेंथा की खेती की जाती है। बाराबंकी जिला पूरे उत्तर प्रदेश में अकेले 33% मेंथा आयल का उत्पादन करता है। वहीं खेती के जादूगर के नाम से अपनी पहचान बनाने वाले बाराबंकी के पद्मश्री प्रगतिशील किसान रामसरन वर्मा के मुताबिक जिले में मेथा की खेती सबसे ज्यादा होती है। इस खेती में बहुत ज्यादा फर्टिलाइजर की जरूरत भी नहीं होती। उन्होंने बताया कि मेंथा की बुआई की प्रक्रिया फरवरी महीने में शुरू होती है। घोसी प्रजाति की मेंथा की खेती सबसे ज्यादा मुनाफा देती है। लगभग 90 दिनों के अंदर किसान मेंथा की खेती से ऑयल निकाल लेते हैं। रामसरन ने बताया कि मेंथा की खेती में किसी जंगली जानवर का डर नहीं होता, क्योंकि वह इसे खाते नहीं हैं। राम सरन वर्मा ने बताया कि सिर्फ बाराबंकी जिले में 40 से करोड़ रुपए के मेंथा आयल की बिक्री होती है।

यह भी पढ़ें: शीतलहरी के साथ आज से फिर गिरेगा पारा, कोहरे के साथ बढ़ेगी गलन, मौसम विभाग ने जारी किया ये अलर्ट

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned