बाहुबली Mukhtar Ansari के खिलाफ बड़ा एक्‍शन, कैंसिल हुआ एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन, ऑटो डीलर पर भी कार्रवाई

बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) जब पंजाब जेल में बंद था, तो वहां पेशी और अस्पताल जाने आने के लिए फेक डॉक्यूमेंट्स के आधार पर बाराबंकी एआरटीओ में अपने लिए यह एंबुलेंस रजिस्टर्ड कराई थी।

बाराबंकी. बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की जाली कागजात पर रजिस्टर्ड एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन कैंसिल कर दिया गया है। इसके साथ ही बाराबंकी में एंबुलेंस गाड़ी बेचने वाले आटो डीलर का व्यवसायिक सर्टिफिकेट भी कैंसिल कर दिया गया है। हालांकि एक सवाल का जवाब अभी तक नहीं मिला है कि इस एंबुलेंस को बाराबंकी में किसने रजिस्टर्ड कराया।

फेक डॉक्यूमेंट्स पर थी एंबुलेंस

दरअसल बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी जब पंजाब जेल में बंद था, तो वहां पेशी और अस्पताल जाने आने के लिए फेक डॉक्यूमेंट्स के आधार पर बाराबंकी एआरटीओ में अपने लिए यह एंबुलेंस रजिस्टर्ड कराई थी। यह एंबुलेंस नगर कोतवाली क्षेत्र के पल्हरी में स्थित एमजीएस आटो फेब प्राइवेट लिमिटेड नामक डीलर से नौ दिसंबर 2013 को खरीदी गई थी। फर्जी पते पर इस एंबुलेंस को 21 दिसंबर 2013 को रजिस्टर्ड कराया गया था। बाराबंकी के सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी प्रशासन पंकज सि‍ंह ने इस एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन निरस्त कर दिया है। जिसके बाद अब यह एंबुलेंस कभी वैध रूप से सड़क पर नहीं दौड़ सकेगी। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी (प्रशासन) पंकज सि‍ंह ने बताया कि मऊ के श्याम संजीवनी हास्पिटल के नाम से रजिस्टर्ड एंबुलेंस UP 41 AT 7171 का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया गया है। वहीं जिस ऑटो डीलर से इसे खरीदा गया था उसका भी व्यावसायिक प्रमाणपत्र कैंसिल कर दिया गया है।

31 मार्च, 2021 को सामने आया था किस्सा

आपको बता दें कि मुख्तार अंसारी की इस एंबुलेंस का किस्सा 31 मार्च, 2021 को सामने आया था। जांच के बाद 2 अप्रैल, 2021 को इस मामले में मऊ की अस्पताल संचालिका डा. अलका राय पर बाराबंकी नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया गया। यही नहीं बाराबंकी पुलिस की टीम ने पंजाब से पांच अप्रैल, 2021 को इस एंबुलेंस को भी बरामद भी कर लिया था। उसके बाद बाराबंकी पहुंची यह एंबुलेंस नगर कोतवाली के माल खाने में दाखिल है और परिसर में दूसरे वाहनों के बीच खड़ी कंडम हो रही है।

इन पर हुई कार्रवाई

इस एंबुलेंस मामले के नगर कोतवाली में दर्ज मुकदमे में एब तक पुलिस अस्पताल संचालिका डा. अलका राय, शेषनाथ राय, मो. सैयद मुजाहिद, राजनाथ यादव, आनंद यादव के साथ एंबुलेंस चालक सलीम को पुलिस गिरफ्तार करके जेल भेज चुकी है। जबकि मुख्तार अंसारी बांदा जेल में बंद है। इसके अलावा पुलिस अभी भी मो. जाफरी उर्फ शाहिद, सुरेंद्र शर्मा और अफरोज की तलाश में जगह-जगह दबिश दे रही है।

यह भी पढ़ें: Ayodhya Ram Mandir : 20 वर्ष बाद राम मंदिर निर्माण के लिये कार्यशाला प्रारम्भ, पत्थर कटिंग कर हुई टेस्टिंग

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned