जरूरी स्वास्थ्य सुविधाएं होंगी शुरू, ऑपरेशन भी हो सकेंगे

- सरकारी व निजी अस्पतालों को सर्जरी से जुड़ी ओपीडी सेवाएं शुरू करने के निर्देश

- सामान्य ओपीडी फिलहाल अभी रहेंगी स्थगित, टीबी की जांच व उपचार मिलेगा

बाराबंकी. कोविड-19 यानि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए अस्पतालों की स्थगित की गयीं आकस्मिक और आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं को बहाल करने के बाद अब अन्य जरूरी चिकित्सा सुविधाओं को भी शुरू करने के निर्देश दे दिए गए हैं। इसके चलते बहुत से लोगों के जरूरी आपरेशन भी कुछ समय से लंबित चल रहे थे जिससे उनकी परेशानी बढ़ती जा रही थी। उनके लिए ख़ुशी की बात है कि अब उनके आपरेशन भी हो सकेंगे।


जरूरी स्वास्थ्य सुविधाएं हों शुरू

प्रमुख सचिव-स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने रविवार को प्रदेश के सभी जिला अधिकारियों और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को पत्र भेजकर कहा है कि कोरोना वायरस का संक्रमण अभी चलते रहने की सम्भावना है, इसके चलते कुछ जरूरी चिकित्सा सुविधाओं को लम्बे समय तक नहीं रोका जा सकता। इसलिए प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों, संयुक्त चिकित्सालयों, महिला चिकित्सालयों ओर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के साथ ही निजी चिकित्सालयों में तत्काल जरूरी स्वास्थ्य सुविधाओं को शुरू किया जाए। इस दौरान पूर्ण सावधानी और प्रोटोकाल का पालन करना अनिवार्य होगा। अस्पतालों को जिन जरूरी सेवाओं को शुरू करने को कहा गया है उनमें सर्जरी से सम्बंधित ओपीडी सेवाएं भी शामिल हैं, लेकिन सामान्य ओपीडी अभी स्थगित रहेगी।

कौन-कौन सी सेवाएं शुरू करने के निर्देश

- रेबीज व अन्य टीकाकरण की सुविधा

- टीबी की जाँच व उपचार की सुविधा

- एचआईवी की जाँच एवं उपचार के लिए आईसीटीसी व एआरटी सेंटर शुरू होंगे

- जिला चिकित्सालयों व सीएचसी में चलने वाले असाध्य रोग केंद्र (एनसीडी क्लीनिक)

- गर्भवती की जाँच एवं उपचार की सुविधा

- दो वर्ष तक के बीमार शिशुओं के लिए जांच व उपचार। इसके लिए सरकारी क्षेत्र में 102 एम्बुलेंस का उपयोग ज्यादा से ज्यादा किया जाए

- गर्भ समाधान एवं नसबंदी की सुविधा

- डाइग्नोस्टिक इमेजिंग एवं प्रयोगशाला

यह भी पढ़ें: मीट की दुकान खोलने के लिए यह है गाइडलाइंस, नियम तोड़ा होगी जेल

coronavirus कोरोना वायरस
नितिन श्रीवास्तव Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned