महामारी में बना मजाक, सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क को भूले लोग

बाराबंकी में कोरोना से बचाव के यह निर्देश मजाक बन गए हैं और लोग इन निर्देशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

बाराबंकी. कोरोना की दूसरी लहर ने पूरे विश्व में कोहराम मचा रखा है और यह लहर पहले से कई गुना ज्यादा खतरनाक साबित हो रही है। सरकार ने इससे बचाव के लिए कुछ नियम निर्देश जारी किए है, जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग और चेहरे पर मास्क को जरूरी बताया गया है। मगर बाराबंकी में कोरोना से बचाव के यह निर्देश मजाक बन गए हैं और लोग इन निर्देशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। गाईडलाईन की धज्जियाँ सबसे ज्यादा बाराबंकी की फल एवं सब्जी मंडी में देखा जा सकता है।

कोरोना से बेखौफ लोग

कोरोना की वैश्विक महामारी में जारी गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाता यह नजारा बाराबंकी के मुख्यालय पर स्थित नवीन फल एवं सब्जी मंडी का है। इस सब्जी मंडी में कई लोग तो बिना मास्क के बेखौफ अपना काम करते दिखे। जब उनसे गाईडलाइन का पालन न करने का कारण पूछा गया तो उनका अजीब तर्क था। कुल मिला कर यहां लोग कोरोना से इस कदर बेखौफ हैं, जैसे सामान्य दिनों में रहते हैं।

न तो पहना मास्क, न ही कोई सोशल डिस्टेंसिग

कैमरे को देखकर मुंह में गमछा बांध लेने वाले केला व्यवसायी वजीर अहमद से जब पूछा गया तो उन्होंने इसका ठीकरा मंडी के कर्ताधर्ता पर फोड़ते हुए कहा कि बिना मास्क के लोगों को गेट पर रोकना चाहिए। अंदर यहां सभी लोग बगैर मास्क के घूम रहे हैं। मान ही नहीं रहे हैं। लोगों में जागरूकता है ही नहीं। मंडी में सब्जी के खरीददार एससी द्विवेदी ने सवाल टालने वाले लहजे में कहा कि हर जगह का यही हाल है। बाराबंकी तो फिर भी ठीक है। अन्य मण्डियों का बुरा हाल है। सुधार कैसे होगा के सवाल पर वह बोले कि इतनी कम जगह में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो सकता है। लोग मास्क लगाकर आयें और अपनी सुरक्षा के उपाय करें।

गाइडलाइन का पालन करने की कही बात

वहीं मंडी सहायक सुनील कुमार शर्मा ने बताया कि यहां सरकार के निर्देशों और गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन कराया जा रहा है। गेट पर मास्क चेक किया जाता है और हाथों को सौनिटाइज कराया जाता है। सब कुछ सरकार और जिलाधिकारी के निर्देशों के अनुरूप ही हो रहा है।

coronavirus
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned