बाराबंकी जिले में लागू नाइट कर्फ्यू पर जनता की मिली जुली राय, कुछ बोले फैसला अच्छा, तो कुछ ने की पूर्ण लॉकडाउन की मांग

जिलाधिकारी डा. आदर्श सिंह ने बताया कि प्रदेश के दूसरे जिलों की तरह बाराबंकी में भी कोरोना वायरस के संक्रमण में बढ़ोत्तरी होने लगी है।

बाराबंकी. कोरोनो से हो रही मौतें और बढ़ रहे एक्टिव केसों की संख्या को देखते हुए बाराबंकी जिले में भी नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है। रात नौ बजे से सुबह 6 बजे तक यह पाबंदी 16 अप्रैल तक जारी रहेंगी। जबकि दिन में निकलने वाले लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पूरी तरह पालन करना होगा। बाराबंकी के जिलाधिकारी डा. आदर्श सिंह ने शासन से मिली अनुमति के बाद इसका आदेश जारी किया है। वहीं जिला प्रशासन के इस फैसले को लेकर जनता की भी मिली जुली राय देखने को मिल रही है। जहां एक ओर कुछ लोग बोल रहे हैं कि नाइट कर्फ्यू का फैसला अच्छा है, तो कुछ ने संक्रमण को फेलने से रोकने के लिए पूर्ण लॉकडाउन की मांग की है।

बढ़ी संक्रमितों की संख्या

बाराबंकी जिले में अब रोजाना लगभग 100 से ज्यादा ही संक्रमित मिल रहे हैं। इस समय जिले में 600 से ज्यादा एक्टिव केस हो गए हैं। जबकि आठ लोगों की मौत भी हो चुकी है। जिसके बाद जिलाधिकारी डा. आदर्श सिंह ने रात्रि कर्फ्यू का यह आदेश जारी किया है। इस दौरान आवश्यक वस्तुओं को लाने ले जाने की छूट होगी। लेकिन दिन में जो लोग बाहर निकलेंगे वह मास्क लगाने के साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन करेंगे।

जनता की मिली जुली राय

बाराबंकी में नाइट कर्फ्यू को लेकर जनता की भी मिलीजुली राय देखने को मिली है। कुछ लोग इससे संतुष्ट नजर आये। तो कुछ लोगों का कहना है कि नाइट कर्फ्यू से कोरोना की रोकथाम में कोई अशर नहीं पड़ेगा। उनका कहना है कि अब दिन का भी लॉकडाउन लगाया जाए। जिससे संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

16 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू

जिलाधिकारी डा. आदर्श सिंह ने बताया कि प्रदेश के दूसरे जिलों की तरह बाराबंकी में भी कोरोना वायरस के संक्रमण में बढ़ोत्तरी होने लगी है। हालांकि संक्रमण पर काबू पाने की पूरी कोशिश स्वास्थ्य, पुलिस और प्रशासन के साथ दूसरे विभाग कर रहे हैं। लेकिन संक्रमण के फैलाव को देखते हुए रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक रात्रि कालीन कर्फ्यू लागू किया गया है, जो 16 अप्रैल तक प्रभावी रहेगा। इस दौरान दिन में निकलने वाले लोगों को कोविड नियमों का पूरी तरह से पालन करना होगा।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned