एससी एसटी संशोधन में बढ़ी नाराजगी, कहा समर्थन करने वाले राजनीतिक दल के नेता शर्मिंदा न करें

एससी एसटी संशोधन में बढ़ी नाराजगी, कहा समर्थन करने वाले राजनीतिक दल के नेता शर्मिंदा न करें

Mahendra Pratap | Publish: Sep, 16 2018 06:44:07 PM (IST) | Updated: Sep, 17 2018 01:54:24 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

एससी एसटी एक्ट के समर्थन में करने वाले राजनीतिक दलों के नेता वोट मांग कर उन्हें शर्मिंदा न करें

बाराबंकी. सरकार द्वारा एससी-एसटी एक्ट में किए गए संशोधन का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। बाराबंकी के गांव गंज बस्ती में भी होर्डिंग लगाकर सवर्णों ने इसका विरोध जताया। इस विरोध प्रदर्शन में राष्ट्रीय हिंदू एक्शन कमेटी और राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा के कार्यकर्ता शामिल हुए। लोगों ने बैनर लगाया और लिखा कि यह गांव सवर्णों का है और एक्ट का समर्थन करने वाले राजनीतिक दलों के नेता वोट मांग कर उन्हें शर्मिंदा न करें। सभा राजनीतिक पार्टियों का प्रवेश यहां वर्जित है। अप्रिय घटना हो सकता है जिसके जिम्मेदार वह खुद होंगे।

सरकार सवर्णों को नजरअंदाज नहीं कर सकती

एससी एसटी एक्ट के विरोध में मुखर होते राष्ट्रीय हिंदू एक्शन कमेटी और राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा के कार्यकर्ताओं ने कहा कि वह केंद्र सरकार के फैसले का विरोध करेंगे और आने वाले चुनाव का बहिष्कार करेंगे। राष्ट्रीय हिंदू एक्शन कमेटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सरकार ने हम लोगों पर काला कानून थोप दिया है। सरकार सवर्णों को इस तरह से नजरअंदाज नहीं कर सकती।

कडा विरोध करेंगे एससी एसटी एक्ट का

उन्होंने कहा कि सवर्णों के लिए आयोग का गठन हो। अजमल कसाब के लिए जब पूरी प्रक्रिया से जांच हुई, तो हम लोगों पर इस तरह से यह फैसला क्यों थोपा जा रहा है। राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा के महासचिव ने कहा कि यह पूरा गांव सवर्णों का है और हम लोग एससी एसटी का कड़ा विरोध कर रहे हैं।

गौरतलब है कि सरकार द्वारा एससी एसटी एक्ट में संशोधन किया गया है, जिसके बाद से यूपी में हड़कंप मचा हुआ है। की जगहों पर लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया है। कहीं पर लोगों ने सिर मुंडवाकर प्रदर्शन किया, तो कहीं पर सांसदों के फोटो के सामने रुदन कर युवाओं ने नाराजगी जतायी और नारेबाजी की।

Ad Block is Banned