पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर सरकार के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, पुनिया ने मायावती को बताया बीजेपी का अघोषित प्रवक्ता

प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस के राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के चलते सभी आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं।

बाराबंकी. पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस आज राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन कर रही है। देशभर में जिला मुख्यालयों पर धरना देकर कांग्रेस कार्यकर्ता केंद्र सरकार से पेट्रोल-डीजल के बढ़े दाम वापस लेने की मांग कर रहे हैं। इसके साथ ही कांग्रेस सोशल मीडिया में स्पीक अप ऑन पेट्रोलियम प्राइज हाइक अभियान भी चला रही है। इसी क्रम में आज बाराबंकी में भी कांग्रेस के राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया और अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष तनुज पुनिया के नेतृत्व में जिला कांग्रेस ने भी धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान पीएल पुनिया ने कहा कि हम पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों को तत्काल वापस लेने की मांग करते हैं। साथ ही उन्होंने इसके लिए बीजेपी सरकार को जिम्मेदार ठहराया। साथ ही पीएल पुनिया ने बसपा सुप्रीमों मायावती पर भी निशाना साधा और उन्हें भाजपा की अषोषित प्रवक्ता तक बता दिया।


सरकार पर साधा निशाना

प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस के राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के चलते सभी आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। इसलिए कांग्रेस ने सरकार से मांग की थी कि ऐसे लोगों के खाते में सीधे पैसे भेजकर उन्हें राहत दी जाए। लेकिन यह करना तो दूर रहा। उल्टा टैक्स लगाकर डीजल पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोत्तर करके आम आदमी को लूटा है। पिछले 20 दिनों के अंदर 13 रुपए प्रति लीटर डीजल के और 11 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल के दाम बढ़ाए गए हैं। साथ ही दो महीने के अंदर भारत सरकार ने एकसाइज ड्यूटी के रूप में 13 रुपए डीजल के ऊपर टैक्स लगाया और 10 रुपए पेट्रोल के ऊपर टैक्स लगाया है। इस तरह से 18 लाख करोड़ रुपए पिछले छह साल में भाजपा सरकार ने लोगों से पैसा वसूला है। इसीलिए हमारी मांग थी कि इस पैसे का लाफ जनता को मिलना चाहिये। लेकिन वो न करके सरकार ने अपना खजाना भरा है। देश के इतिहास में पहली बार डीजल के दाम पेट्रोल से ज्यादा हो गए हैं। भाजपा दावा करती थी कि 2022 तक वह किसानों की आमदनी को दो गुना कर देगी। दो गुना तो दूर ये किसानों के जले पर नमक छिड़कने का काम किया जा रहा है। इसीलिए हमने राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की मांग की है। साथ ही जरूरतमंद लोगों के खाते में ये पैसा सीधे भेजे जाने की मांग की है।


मायावती को बताया बीजेपी का अघोषित प्रवक्ता

साथ ही पीएल पुनिया ने बसपा सुप्रीमों मायावती पर भी निशाना साधा और उन्हें भाजपा की अषोषित प्रवक्ता तक बता दिया। दरअसल मायावती ने देश में फैली बेरोजगारी औऱ गरीबी के कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया था। जिसपर पीएल पुनिया ने कहा कि मायावती से हम उम्मीद कर रहे थे कि गरीबों, महिलाओं और बेरोजगारों पर अत्याचार के खिलाफ कुछ बोलेंगी। लेकिन वह अब भाजपा की अघोषित प्रवक्ता के रूप में काम कर रही हैं।

Congress
नितिन श्रीवास्तव Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned