जिस प्रेमिका के लिए हत्या हुई...वह प्रेमिका निकली फर्जी, पुलिस ने किया खुलासा

इस खुलासे पर पुलिस अधीक्षक ने टीम को 10 हजार रुपये का पुरूस्कार दिया है...

बाराबंकी. जिले में एक ऐसी वारदात सामने आयी है जो काफी उलझी थी, लेकिन पुलिस ने आखिर इसे सुलझाकर दोषियों को सलाखों के पीछे भेजने का काम कर दिया है। यहां प्रेम में बाधक बने युवक को प्रेम के झांसे में फंसाकर हत्या कराने का सनसनी खेज मामला सामने आया है। यह ऐसा मामला था जिसमें पुलिस को भी खुलासा करने में पसीने आ गए। आखिरकार पुलिस ने मामले का खुलासा कर असल आरोपियों को जेल की सलाखों के पीछे भेजने का काम कर दिया है। जिसके लिए पुलिस अधीक्षक ने टीम को 10 हजार रूपये का पुरस्कार दिया है।

बाराबंकी पुलिस की गिरफ्त में आए यह लोग ऐसे आरोपी हैं जिन्होंने एक युवक की हत्या इसलिए कर दी क्योंकि वह इनके प्रेम में बाधक बन गया था। इसकी हत्या की पूरे फिल्मी तरीके से बनाई गयी थी। इसमें एक लड़की का भी इस्तेमाल बड़ी होश्यारी से किया गया और उसकी मदद से युवक की हत्या कर दी गई। दरअसल कुछ दिन पहले गांव से बाहर बाग में एक युवक का शव मिलने के बाद पुलिस ने कड़ी मेहनत से आरोपियों का पता लगाया और उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक डाक्टर अरविन्द चतुर्वेदी ने बताया कि कुछ दिन पहले गांव के बाहर एक युवक का शव मिला था। जिसकी शिनाख्त सूरज कुमार रावत के रूप में हुयी थी। पुलिस की कड़ी मेहनत और बारीक छानबीन से यह बात सामने आई कि गांव में आने-जाने वाले युवक सुहेल गांव की एक लड़की से मिलता जुलता था और इससे सूरज भड़का था। सूरज को रास्ते से हटाने के लिए सुहेल ने अयोध्या जनपद की अपनी एक परिचित लड़की से सूरज की पहचान कराई और दोनों में बात होने लगी। इसी लड़की ने सुहेल के कहने पर रात में फोन करके बाग में मिलने के लिए उसे बुलाया। जब सूरज बाग में गया तो पहले से योजना बना कर बैठे सुहेल और उसके साथी मोनिस ने लाठी डंडों से पीटकर उसकी हत्या कर दी। इस खुलासे पर पुलिस अधीक्षक ने टीम को 10 हजार रुपये का पुरूस्कार दिया है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned