सपाईयों ने फूंका सीएम योगी का पुतला, जूते की ठोकर से पुलिस ने हटाया

इस दौरान सपाईयों ने योगी -ढोंगी की सरकार नहीं चलेगी, नहीं चलेगी का जमकर नारा लगाया।

 बाराबंकी. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला विपक्षी फूंक रहे हों और पुलिस मूकदर्शक बनी रहे। ऐसा नजारा बहुत कम ही देखने को मिलता है। मगर यह सब हुआ है बाराबंकी जिले में, जहां पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की गिरफ्तारी से नाराज सपाई जनपद में प्रदर्शन करके मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंक रहे थे। खास बात यह है कि इस कार्यक्रम के दौरान बाराबंकी की पुलिस मौजूद रही और वह सिर्फ पुतला दहन का तमाशा देख रही थी। जैसे ही उनकी नजर मीडिया के कैमरे पर पड़ी तो उन्होंने पैरों की ठोकर से मुख्यमंत्री के प्रतीक पुतले को हटाया।


तमाशा देखती रही पुलिस


पुलिसिया करतूत का ये चौंकाने वाला मामला सामने आया है बाराबंकी जिले में, जहां गुरुवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की गिरफ्तारी से नाराज सपाईयों ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंकने का कार्यक्रम रखा। इस पुतला दहन कार्यक्रम की मुख्य बात यह रही कि बाराबंकी पुलिस मौके पर मौजूद तो रही, मगर सिर्फ पुतला दहन का तमाशा देखती रही। पुलिस की नजर जैसे ही मीडिया के कैमरे की तरफ पड़ी वैसे ही आनन- फानन में वह अपने जूते की ठोकरों से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रतीक पुतले को वहां से हटाकर अलग थलग करने लगी।

 

सपाइयों ने जमकर किया विरोध प्रदर्शन

इस दौरान सपाईयों ने योगी -ढोंगी की सरकार नहीं चलेगी, नहीं चलेगी का जमकर नारा लगाया। समाजवादी पार्टी नेता राजीव गुप्ता ने कहा कि प्रदेश की जनता ने बड़ी उम्मीदों के साथ बीजेपी की इस सरकार को बनाया था, लेकिन पांच महीने बीत जाने के बाद ही उनकी आशाएं धूमिल हो गई हैं। अभी गोरखपुर में हुई बच्चों की मौतों की जिम्मेदारी कोई लेने की स्थिति में नहीं है और अपने दौरे पर औरैया जा रहे अखिलेश यादव को गिरफ्तार करने का गलत काम कर रही है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned