रोजगार दो या कफन दो, समाजवादी पार्टी का बेरोजगारी को लेकर अनोखा प्रदर्शन

बाराबंकी मुख्यालय पर कफन ओढ़कर प्रदर्शन करते हुए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सरकार से रोजगार की मांग की।

बाराबंकी. कोरोना की महामारी में जहां बेरोजगारी चरम पर है, व्यापार चौपट है और निजी कंपनियां अपने कर्मचारियों की बड़े पैमाने पर छटनी कर रहे हैं। जिससे छात्र नौजवान बेरोजगारी की आग में जल रहा है। इसी बात को लेकर मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी ने आज अनोखा प्रदर्शन किया और सरकार से मांग की कि अगर वह रोजगार नहीं दे सकती तो नौजवानों को कफन दे दे।

सपा का प्रदर्शन

बाराबंकी मुख्यालय पर कफन ओढ़कर प्रदर्शन करते हुए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सरकार से रोजगार की मांग की। रोजगार मांगने के लिए पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अनोखा रास्ता अपनाया और बीच सड़क पर किसी शव की तरह कफन ओढ़कर लेट गए। इन युवा नेताओ ने सरकार को यह साफ संदेश दिया कि अब वह सत्ताधारी भाजपा को बेरोजगारी के मुद्दे पर छोड़ने वाले नहीं है और उससे दो-दो हाथ करके ही रहेंगे। प्रदेश में निजी कंपनियों द्वारा मनमानी छटनी कर कर्मचारियों को बेरोजगारी की आग में धकेलने और सरकार द्वारा रोजगार के अवसर उपलब्ध न करवाने को लेकर इनमें जबरदस्त गुस्सा दिखा। इसी कारण इन लोगों ने कहा कि अगर सरकार उन्हें रोजगार नहीं दे सकती तो उन्हें कफन ही दे दे।

रोजगार दो या कफन दो

प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे समाजवादी युवजन सभा के जिलाध्यक्ष आशीष सिंह आर्यन ने बताया कि लॉक डाउन के दौरान पूरे प्रदेश में मंदी चरम पर है। लोगों के पास रोजगार नहीं है। वह भुखमरी की कगार पर आ गए हैं। कारखानों से लोग निकाले जा रहे हैं। लोगों के पास काम नहीं रह गया है। वह इधर उधर भटक रहे हैं, लेकिन यह सरकार जैसे सो रही है। इसीलिए हम सरकार से मांग कर रहे है कि वह हमें रोजगार दे और अगर रोजगार नहीं दे सकती तो हमें कफन दे दे।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned