सरकारी राशन की दुकानों के तराजू में हो रखी थी सेटिंग, गरीबों से हो रहा था धोखा, एसटीएफ ने किया खुलासा

पेट्रोल पम्पों पर घटतौली की तर्ज पर सरकारी राशन की दुकानों के काँटे होते है रिमोट से संचालित, यूपी एसटीएफ ने किया है खुलासा

By: Abhishek Gupta

Updated: 23 Aug 2020, 06:01 PM IST

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

बाराबंकी. रविवार को यूपी एसटीएफ (UP STF) की टीम ने बाराबंकी (Barabanki) से सरकारी राशन की दुकान (Ration shops) चलाने वाले दुकानदारों को गिरफ्तार कर राशन की दुकानों के काँटे में सेटिंग का पर्दाफाश किया है। इस खुलासा ने पूरे प्रदेश में हड़कम्प मचा दिया था। यूपी एसटीएफ की इसी कार्यवाही को लेकर पत्रिता टीम ने भी कुछ दुकानों का जायजा लिया।

जब से लॉक डाउन शुरू हुआ तबसे सरकार की तरफ से सभी के लिए मुफ्त राशन देने की योजना शुरू हुई ताकि कोई भूख से न मरे, लेकिन दुकानदारों ने इस आपदा में भी अपनी कमाई का रास्ता ढूंढ ही लिया, पर यह ज्यादा दिन चलता उससे पहले ही यूपी सरकार सख्त हो गयी और इस काम में यूपी एसटीएफ को लगा दिया। एसटीएफ ने बाराबंकी जनपद से ही आज दो ऐसे लोगों की गिरफ्तारी की जो गरीबों का राशन डकारने के लिए तौलने वाले काँटे में सेटिंग कर चुके थे। ऐसी घटतौली अमूमन पेट्रोल पम्पों पर दिखाई देती थी जिसके कारण कई पेट्रोल पम्पों पर कार्यवाई भी हुई।

यूपी एसटीएफ की इसी कार्यवाही के असर का जायजा लेने नगर की कुछ राशन की दुकानों पर पत्रिका टीम भी गई। यहाँ नबीगंज स्थित एक दुकानदार मोहम्मद शफीक ने बताया कि उनका काँटा बिल्कुल ठीक है। उसे कभी भी चेक किया जा सकता है। वह हर कार्ड पर पाँच यूनिट की दर से राशन उपलब्ध करा रहे हैं। उनके यहाँ के सभी ग्राहक सन्तुष्ट भी हैं। वह जब बोरे में अनाज तौलते हैं, तो बोरे के बराबर राशन भी बढ़ा कर देते हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned