चोरी में होता था स्कूल वाहन का प्रयोग, अलग-अलग मामले के दो गिरोह चढ़े पुलिस के हत्थे

पुलिस ने अलग-अलग मामलों के दो शातिर गिरोह के सदस्यों का भांडाफोड़ कर दिया।

By: नितिन श्रीवास्तव

Published: 16 Sep 2020, 10:19 AM IST

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

बाराबंकी. पुलिस ने अलग-अलग मामलों के दो शातिर गिरोह के सदस्यों का भांडाफोड़ कर दिया। पहला गिरोह जिले में दो पहिया वाहन की चोरी कर उसे भोले भाले लोगों के हाथों सस्ते दामों में बेचने का काम करता था, जबकि दूसरा गिरोह कुछ समय पूर्व ही खेत में लगे इंजन की चोरी कर चुका था। इंजन चोरी मामले में खास बात यह रही कि यह चोर चोरी में स्कूल वाहन का उपयोग करते थे। जिससे किसी को भी उनकी चोरी पर शक न हो। पुलिस का मानना है कि इन दोनों गिरोहों के भंडाफोड़ से जिले में हो रही चोरी की घटनाओं पर अंकुश लग सकेगा।

अलग-अलग गिरोह का पर्दाफाश

बाराबंकी पुलिस ने दो अलग-अलग गिरोह का पर्दाफाश कर चोरी की दो घटनाओं का खुलासा कर दिया। पहला मामला थाना नगर कोतवाली इलाके का है जहां पुलिस के हाथ एक ऐसे गिरोह तक पहुंच गए जो जिले में ताबड़तोड़ दोपहिया वाहन की चोरी कर पुलिस के लिए सिरदर्द बना हुआ था। पुलिस ने इनके कब्जे से 3 अदद मोटरसाइकिल बरामद कर घटना का खुलासा कर दिया। साथ ही पुलिस अधीक्षक ने लोगों से अपने वाहनों को पार्किंग या स्टैण्ड में पार्क करने और अपने साथ एक जंजीर और ताला रखने की सलाह देते हुए कहा कि अगर चेन और ताला से दो पहिया वाहन को अलग से बांध दिया जाए तो आसानी से चोरी की संभावना कम हो जाती है। दूसरा मामला थाना कुर्सी का है जहां कुछ दिनों पूर्व खेत से इन्जन चोरी कर लिया गया था। मौके पर जांच करने पर पता चला कि इस चोरी में एक चार पहिया वाहन और कुछ मोटर साईकिल का इस्तेमाल हुआ है। पुलिस ने इस सूचना को विकसित करते हुए जो चोरी में वाहन प्रयुक्त हुआ जब उसे पकड़ा तो वह एक स्कूल का वाहन निकला।

पुलिस ने की कार्रवाई

बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक डॉक्टर अरविंद चतुर्वेदी ने बताया कि मोटरसाइकिल चोरी के मामले में दो आरोपी भानु प्रताप और अर्जुन सिंह तथा इंजन चोरी मामले में अवनीश पाण्डेय और धर्मेन्द्र को गिरफ्तार किया गया है। अवनीश पाण्डेय एटा जिले का रहने वाला शातिर किस्म का अपराधी है। अन्य जनपदों में भी इसके कारनामे पता लगाए जा रहे हैं। इन लोगों ने इंजन चोरी में जिस चार पहिया वाहन का इस्तेमाल किया था जब उसे पकड़ा गया तो वह एक स्कूल वाहन निकला। जिसका उपयोग पुलिस से बचने के लिए किया गया था। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि दो पहिया वाहनों के मालिक अपने वाहन को पार्किंग या स्टैण्ड पर ही खड़ा करें और अपने साथ एक चेन और ताला भी रखें, जिससे मोटरसाइकिल के पहिये को आसानी से बांधा जा सके। इससे चोरी की संभावना कम हो जाती है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned